भारतीय क्रिकेट टीम में अभी तक विवाद शांत नहीं हुआ हैं. पहले कोच को लेकर एक लम्बा विवाद देखने को मिला था और अब सपोर्टिंग स्टाफ को लेकर तरह तरफ की बातें सामने आ रही हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दे, कि बीसीसीआई द्वारा नियुक्त क्रिकेट सलाहकार समिति {सीएसी} द्वारा भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व डायरेक्टर रवि शास्त्री को टीम इंडिया का नया मुख्य कोच, जबकि सपोर्टिंग स्टाफ के रूप में राहुल द्रविड़ और ज़हीर खान को टीम के साथ जोड़ा गया.

कहानी में ट्विस्ट अभी बाकि हैं 

photo credit: getty Images

जी हाँ ! चौंकिए मत भारतीय क्रिकेट की कहानी में असली और सबसे मजेदार ट्विस्ट आना, तो बाकि ही था. जब से राहुल द्रविड़ और ज़हीर खान को बतौर सपोर्टिंग स्टाफ के तौर पर टीम के साथ जोड़ा गया हैं, तब से मुख्य कोच रवि शास्त्री के मिजाज थोड़े नहीं, बल्कि बहुत ही ज्यादा उखड़े उखड़े दिखाई दे रहे हैं. दरअसल कुछ इस तरह की खबरे सामने आ रही हैं, कि हेड कोच रवि शास्त्री राहुल द्रविड़ और ज़हीर खान के टीम के साथ जोड़े जाने से बिलकुल भी खुश नहीं और वह अपना सपोर्टिंग स्टाफ खुद अपने हिसाब से चुनना चाहते हैं.

सीओसी ने लिया बड़ा फैसला 

pic credit :Getty images

इसी सब वाद विवाद के बीच सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त की गयी क्रिकेट प्रसशाक समिति {सीओए} ने एक बड़ा फैसला किया हैं. सीओए ने कहा, कि टीम इंडिया के सहयोगी स्टाफ को मुख्य कोच रबी शास्त्री के साथ विचार विमर्श के बाद 22 जुलाई तक नियुक्त किया जाएंगा और तब तक के लिए राहुल द्रविड़ और ज़हीर खान की नियुक्ति पर विराम लग गया हैं. सीओसी के सदस्य विनोद राय, डायना इडुल्जी और बीसीसीआई के मुख्य अधिकारी राहुल जौहरी द्वारा यह फैसला लिया गया हैं.

क्या कहते हैं राय 

(Photo by : Getty Images)

सीओए के अध्यक्ष विनोद राय ने कहा, कि ”हमने रवि शास्त्री को हेड कोच रखने के लिए सीएसी की सभी सिफारिशे देखि और हम उनके साथ अन्य कहों की नियुक्ति के बारे में चर्चा करेंगे. हमने एक समिति का निर्माण किया हैं और वे सीएसी से बात करेंगे. सपोर्टिंग स्टाफ पर फैसला हेड कोच की सलाह के बाद ही लिया जायेंगा. कोचिंग स्टाफ के लिए सभी पदों की नियुक्ति हो चुकी हैं. मगर हमने अभी उन सभी की राय लेनी होगी. हमे यह सुनिश्चित करना होगा, कि किसी के बीच भी टकराव का कोई मुद्दा ना हो. आप सभी के लिए बता दे, कि अभी अनुबंद जैसी कोई चीज़ नहीं हुई हैं. यह सभी सिफरिश थी, नियुक्ति नहीं. सीओए को सिफारिश के हिसाब से काम करना हैं और सिफारिशों पर मुख्य कोच की सलाह के बाद ही विचार किया जायेंगा.”

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *