Rahul Dravid talk every palyer

IND vs NZ 2021: भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेले गए पहले टेस्ट मुकाबलें के बाद भारतीय कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) का एक और बड़प्पन सामने आया. 2 टेस्ट मैचो की सीरीज का पहला टेस्ट मुकाबला ड्रा पर समाप्त हुआ.

मैच के बाद भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच राहुल द्रविड (Rahul Dravid) ने शिव कुमार (Shiv Kumar) की अगुवाई में कानपुर के ग्रीन पार्क मैदान में बेहतरीन पिच तैयार करने वाले कर्मचारियों को 35,000 रुपये की प्रोत्साहन राशि से सम्मानित किया है. इसकी जानकारी खुद उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (UPCA) ने खेल के बाद प्रेस बॉक्स में घोषणा कर के दी.

ये वही राहुल द्रविड़ हैं, जिन्हें हम पहले से जानते हैं

Saba Karim on Rahul Dravid coaching

भारतीय क्रिकेट टीम के तत्कालीन कोच और पूर्व भारतीय खिलाड़ी द्रविड़ (Rahul Dravid) को हमेशा से निष्पक्ष खेल भावना के लिए जाना जाता था. तो वही अब पिच कर्मचारियों को इस तरह प्रोत्साहित करना इस बात का गवाह है कि, ये वही राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) है, जिन्हें हम लम्बे अरसे से जानते है. कानपुर की इस शानदार पिच ने खेल के पांचो दिन शानदार खेल दिखाया. इस पिच में बल्लेबाजो के साथ गेंदबाजों के लिए भी काफी कुछ था.

इस पिच पर जहां शानदार तकनीक दिखाने वाले श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer), शुभमन गिल (Shubhman Gilll), टॉम लाथम (Tom Latham) और विल यंग (Will Young) जैसे बल्लेबाजों ने रन बनाए तो वहीं टिम साउदी (Tim Latham) और काइल जैमीसन (Kyle Jemmison) जैसे तेज गेंदबाजों ने भारत के टॉप ऑर्डर को परेशान किया। पिच से भारतीय स्पिनरों को भी मदद मिली.

मुझे लगता है कि अश्विन की उपलब्धि अभूतपूर्व है: Rahul Dravid

rahul-dravid-post presentation

भारतीय स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने पहले टेस्ट के पांचवे दिन न्यूजीलैंड के ओपनर बल्लेबाज टॉम लाथम (Tom Latham) का विकेट चटकाकर एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली. इस विकेट के साथ अश्विन के नाम कुल 418 विकेट हो गए और उन्होंने दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) (417 विकेट) को पीछे छोड़ते हुए टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बा गए. आश्विन की इस शानदार उपलब्धि को टीम के कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने भी काफी सराहा. द्रविड़ ने अश्विन की तारीफ करते हुए कहा,

मुझे लगता है कि यह एक अभूतपूर्व उपलब्धि है. आप जानते हैं कि हरभजन वास्तव में एक बेहतरीन गेंदबाज थे, जिनके साथ मैंने काफी क्रिकेट खेला है. अश्विन का सिर्फ 80 टेस्ट मैचों में उनसे आगे निकलना एक अभूतपूर्व उपलब्धि है.