Quinton de Kock

साउथ अफ्रीकन टीम का काले-गोरे के भेदभाव से जुड़े विवादों से गहरा नाता रहा है. जिसके कारण साल 1970 में  टीम इंटरनेशनल क्रिकेट से बैन भी हो चुकी है. टी-20 वर्ल्डकप 2021 (ICC T20 World cup 2021) में ये विवाद एक बार फिर उभरकर सामने आया है.

दरअसल टीम के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) ने 2 दिन पहले साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए ब्लैक लाइव्स मैटर (Black Lives Matter) मैच से पहले घुटने के बल बैठने से इनकार कर दिया था और वो इसी कारण से वो वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच में भी नहीं उतरे थे.

अब मांगनी पडी माफ़ी

quinton de kock

डी कॉक (Quinton de Kock) ने 2 दिन पहले साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए ब्लैक लाइव्स मैटर (Black Lives Matter) मैच से पहले घुटने के बल बैठने से इनकार कर दिया था. अब 2 दिन के भीतर ही उन्होंने यू-टर्न लेते हुए अपने किए के लिए गलती मान ली. डी कॉक (Quinton de Kock) ने कहा,

मैं देश के लिए क्रिकेट खेलना चाहता हूं. इसकी शुरुआत साथी खिलाड़ियों, फैंस को सॉरी बोलकर करना चाहता हूं. मैं कभी भी इसे मुद्दा नहीं बनाना चाहता था. मैं नस्लवाद के खिलाफ खड़े होने के महत्व को समझता हूं और एक उदाहरण स्थापित करने के लिए खिलाड़ियों के रूप में हमारी जिम्मेदारी को भी समझता हूं. अगर मुझे घुटने टेकने से ऐसा करने में खुशी मिलती है, तो ऐसा करने के लिए तैयार हूं.

मैं ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ का सपोर्ट करता हूं: Quinton de Kock

Quinton de Kock

डी कॉक (Quinton de Kock) ने अपने बयान में आगे कहा,

वेस्टइंडीज के खिलाफ नहीं खेलकर मेरा मकसद किसी भी तरह से किसी का अपमान करना नहीं था. खासकर खुद वेस्टइंडीज टीम का. हो सकता है कि कुछ लोग मेरी बात को न समझें. क्योंकि मंगलवार को मैच से पहले ही मेरे मन में यह बात आई थी. मेरी वजह से पैदा हुए भ्रम, तकलीफ और गुस्से के लिए मैं शर्मिंदा हूं. मुझे लगता है कि इस मसले पर मुझे अपना पक्ष समझाना होगा. क्योंकि मैं खुद मिश्रित जाति परिवार से आता हूं. मेरी सौतेली मां खुद ब्लैक थीं. मैं जिस दिन से पैदा हुआ हूं. मेरे लिए ‘ब्लैक लाइव्स मैटर करती रही हैं.

कार्रवाई के मूड मे थी साउथ अफ्रीकन क्रिकेट बोर्ड

Quinton de Kock

क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) ने वेस्टइंडीज (RSA vs WI) के खिलाफ मैच में खेलने से इसलिए इनकार कर दिया था. क्योंकि वो ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन के तहत मैच से पहले घुटने पर नहीं बैठना चाहते थे. उनके इस रुख से साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड नाराज था और टीम मैनेजमेंट से एक रिपोर्ट भी तलब की थी. इसके बाद उन पर कार्रवाई हो सकती थी. लेकिन उससे पहले ही डिकॉक (Quinton de Kock) ने एक बयान जारी कर माफी भी मांग ली और टी20 विश्व कप में आगे के मुकाबलों में घुटने के बल पर बैठने के लिए हामी भर दी.