Prithvi Shaw on Trollers after Failes in Yo-Yo Test before IPL 2022
Prithvi Shaw on Trollers after Failes in Yo-Yo Test before IPL 2022

आईपीएल 2022 का आगाज होने में अब सिर्फ कुछ दिन ही बाकी रह गए हैं लेकिन, उससे पहले पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को लेकर आई खबर ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. यो-यो टेस्ट में फेल होने के बाद चारो तरफ उन्हें लेकर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. कई लोग उनकी कम उम्र में इस टेस्ट में फेल होने को लेकर आलोचना कर रहे हैं. ऐसे में अब पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) ने सोशल मीडिया के जरिए खुद पर टिप्पणी करने वालों को करारा जवाब दिया है.

यो-यो टेस्ट में फेल होने के बाद ट्रोल हुए शॉ

 Prithvi Shaw fails to clear yo-yo test before IPL 2022

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2022 का आगाज 26 मार्च से होना है. इससे पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने खिलाड़ियों का यो-यो टेस्ट कराया. दिल्ली कैपिटल्स (DC) के ओपनर इस टेस्ट को पास नहीं कर पाए. वहीं गुजरात टाइटंस (Gujarat Titans) के कप्तान और ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या इसे पास करने में सफल हो गए है.

टेस्ट में फेल होने पर पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) सोशल मीडिया पर ट्रेंड में आ गए हैं. कुछ लोगों ने उन्हें ट्रोल कर दिया है तो कई कई खबरें शेयर करते दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में ओपनर ने ट्रोलर्स को आडे हाथ ले लिया है और उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए ऐसा करने वालों को करारा जवाब दिया है.

‘मेरी स्थिति समझे बगैर मुझे जज न करें’

 Prithvi Shaw Post on Trollers

दरअसल यो-यो टेस्ट में फेल होने बाद जिस तरह से दिल्ली कैपिटल्स के इस सलामी बल्लेबाज को ट्रोल किया जा रहा है, उससे वो बिल्कुल खुश नहीं नजर आ रहे हैं. उन्होंने इस पर अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी के जरिए एक पोस्ट साझा किया है. जिसमें शॉ ने लिखा, “मेरी स्थिति समझे बगैर मुझे जज न करें. आप अपना काम करें. क्योंकि आप मेरी स्थिति नहीं जानते हैं. ऐसे में कृप्या मुझे जज न करें. आप अपना कर्म करते रहें.”

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यो-यो टेस्ट बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट अकादमी (NCA) में हुआ. BCCI की केंद्रीय अनुबंध लिस्ट में शामिल सभी खिलाड़ियों को आईपीएल में खेलने के लिए यह यो-यो टेस्ट पास करना जरूरी होता है. लेकिन, पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) के लिए अच्छी बात यह है कि भले ही वो इस टेस्ट में फेल हो गए हैं. लेकिन, उन्हें इस टूर्नामेंट में खेलने की अनुमति होगी. क्योंकि बीससीआई से उनका केंद्रीय करार नहीं है.