862570 prithvi shaw pti 082619

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने शुक्रवार को इंग्लैंड दौरे के लिए 20 सदस्यीय टीम इंडिया के स्क्वाड का ऐलान कर दिया। इस स्क्वाड में हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार व युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को नहीं चुना गया। शॉ को स्क्वाड में ना देखकर फैंस तो हैरान हुए ही, साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा भी शॉ के ड्रॉप किए जाने से नाखुश नजर आए।

Prithvi Shaw ने मचाया है बल्ले से धमाल

Prithvi Shaw

इंग्लैंड दौरे के लिए भारतीय टीम के ऐलान के बाद जिस खिलाड़ी के नाम पर सबसे अधिक चर्चा हो रही है। वह हां युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ। दरअसल, Prithvi Shaw ने ऑस्ट्रेलिया के खराब दौरे के बाद जमकर घरेलू क्रिकेट में रन बनाए और फिर आईपीएल में भी अपना शानदार फॉर्म जारी रखा।

Prithvi Shaw को ऑस्ट्रेलिया में डे-नाइट टेस्ट मैच में खेलने का मौका मिला था, जिसमें वह रन नहीं बना सके और उन्हें प्लेइंग इलेवन से ड्रॉप कर दिया गया था। लेकिन इसके बाद विजय हजारे ट्रॉफी में शॉ ने रिकॉर्ड तोड़ बल्लेबाजी की और 8 मैचों में 800 से ज्यादा रन बनाए थे और ऐसा करने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने थे साथ ही साथ उन्होंने आइपीएल 2021 के 8 मैचों में भी शानदार बल्लेबाजी करते हुए 308 रन बनाए थे।

Prithvi Shaw ने खामियों पर की कड़ी मेहनत

भारत के युवा सलामी बल्लेबाज को इंग्लैंड दौरे के लिए टीम इंडिया में नहीं चुना गया है। Prithvi Shaw को स्क्वाड में ना चुने जाने से आशीष नेहरा नाखुश नजर आए। क्रिकबज से बात करते हुए नेहरा ने कहा कि,

‘उन्हें टीम के ड्रॉप किया जाना सही नहीं है और वो भी सिर्फ एक टेस्ट मैच के आधार पर। उन्होंने अपनी तकनीकी खामियों को दूर करने के लिए कड़ी मेहनत की है और जब वो ज्यादा रन नहीं बना पा रहे थे तब उन्हें ज्यादा मौके मिलने चाहिए थे। जहां तक तकनीक का सवाल है इसे एडजस्ट करना सभी खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होता है। एडिलेड टेस्ट के दौरान वो ऐसे बल्लेबाज नहीं थे जिन्हें 30-40 मैचों का अनुभव था। हम एक युवा खिलाड़ी की बात कर रहे हैं और एक मैच के आधार पर उन्हें ड्रॉप किया जाना सही नहीं है।”

एक मैच के बाद शॉ को ड्रॉप करना गलत

Prithvi Shaw

भारतीय टीम, ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जब बॉर्डर-गावस्कर सीरीज खेलने गई थी, तब पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) को सिर्फ पहले ही मैच में खेलने का मौका मिला था। जहां, बल्लेबाज स्कोर नहीं कर सका। इसके बाद जब अजिंक्य रहाणे ने टीम की कमान संभाली, तो उन्होंने शॉ को ड्रॉप करके शुभमन गिल को डेब्यू का मौका दिया। हालांकि गिल ने खुद को साबित भी करके दिखाया। मगर नेहरा का मानना है कि एक मैच के बाद शॉ को ड्रॉप करना गलत ता। उन्होंने कहा,

“भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने गई थी, लेकिन एक मैच के बाद उन्हें ड्रॉप करने का फैसला सही नहीं था। पिछले साल आइपीएल में भी उसे नहीं बैठाना चाहिए था, जब उसने कुछ अच्छी पारियां खेली और स्कोर नहीं कर सके। लेकिन अगर आप टी20 की बात करेंगे तो मैं हमेशा ऐसे खिलाड़ी को सपोर्ट करूंगा जिसके खाते में रहाणे से अधिक रन है। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि रहाणे अच्छे खिलाड़ी हैं लेकिन टी 20 में आपको शॉ, पंत, हेटमायर और स्टोइनिस जैसे विस्फोटक खिलाड़ियो की जरूरत है।”