किंग्स इलेवन पंजाब ने स्पिन गेंदबाज आर आश्विन को टीम की कमान सौंपने के बाद अहम फैसला लिया है। लंबे समय से गेंदबाजी कोच को लेकर चल रहे कयास पर विराम लगाते हुए टीम ने पूर्व भारतीय गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद को गेंदबाजी का कोच प्रमुख नियुक्त किया है। उन्हें यह जिम्मेदारी जूनियर चयनकर्ता पैनल से दो दिन पहले दिए गए इस्तीफे बाद मिली है।

विश्वकप के एक महीने बाद दिया इस्तीफा 

अंडर-19 विश्वकप का फाइनल मुकाबला तीन फरवरी को भारत-बनाम ऑस्ट्रेलिया खेला गया था। इस मैच में भारतीय अंडर-19 टीम मे 8 विकेट से जीत दर्ज की थी। मनजोत कालरा ने शानदार 105 रन की जिताऊ पारी खेली थी।

इसी के ठीक एक महीने बाद जूनियर चयन समिति के प्रमुख पद से वेंकटेश प्रसाद ने अपना इस्तीफा दिया है। वो पिछले तीस महीने से जूनियर चयन समिति से जुड़े हुए थे। इनकी अध्यक्षता में चुनी हुई टीम ने चौथी बार विश्वकप का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया है।

किंग्स इलेवन पंजाब ने एक बयान जारी करते हुए कहा, “वेंकटेश प्रसाद, पूर्व दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज और जूनियर राष्ट्रीय चयन समिति (बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष हैं। उन्हें बोर्ड में टीम के गेंदबाजी कोच के रूप में शामिल किया गया है।”

ब्रैड हॉज को मिली बड़ी जिम्मेदारी

किंग्स इलेवन पंजाब ने पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज ब्रैड हॉज को टीम का प्रमुख कोच बनाया था। इससे पहले ब्रैड हॉज गुजरात लायंस के कोच रह चुके  हैं।2016 में संजय बांगर ने पंजाब के प्रमुख कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था इसके बाद इन्हें यह अहम जिम्मेदारी मिली थी। ब्रैड हॉज के पास इस फार्मेट में 7 हजार रन बानने का अनुभव है।

ब्रैड हॉज ने कहा कि, ”हम लोगों ने मिलकर एक अभूतपूर्व टीम बनाई है। हमारी कोचिंग स्टाफ का हर एक सदस्य काफी अनुभवी है। जो हमें किंग्स इलेवन पंजाब को एक पूर्ण टीम बनाने में काफी मदद करेंगे। इस बार रोमांच की काफी संभावना है।”

ये होंगे पर्दे के पीछे असली खिलाड़ी

किंग्स इलेवन पंजाब आगामी आईपीएल में पूरी ताकत के साथ मैदान में दस्तक देने वाली है। इसके लिए टीम फ्रेंजाइजी ने पर्दे के पीछे से लेकर मैदान तक अहम रणनीति तय की है। टीम में कौन खिलाड़ी है ये तो सभी जानते हैं,लेकिन टीम के लिए पर्दे की पीछे की रणनीति बनाने वाले खिलाड़ी कौन उनके बारे में बताते हैं।

दिल्ली के खिलाड़ी मिथुन मन्हास को सहयोगी कोच के रूप में शामिल किया गया है। इसी के साथ निशांत ठाकुर, श्यामल वल्लभजी और निशांत बोर्डोली को फ्रेंजाइजी ने कंडीशनिंग कोच, तकनीकी प्रशिक्षक और क्षेत्ररक्षण कोच के रूप में शामिल किया है।

वेंकटेश को लेकर सहवाग भी उत्साहित

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को टीम मेंटोर के रूप में 2017 में बोर्ड में जगह दी गई थी। तभी से वो इस पद पर बने हुए हैं। सभी कोच सहवाग को रिपोर्ट करेंगे। सहवाग ने कहा, “हम इस वर्ष वेंकटेश के साथ एक विदेशी कोच टीम में शामिल होने में प्रसन्न हैं। मुझे उम्मीद है कि टीम अपने सामूहिक अनुभवों से बेहद लाभ लेगी है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here