Virat kohli gives a Challenge to PM Modi and then
Credit: Rapid leaks

फिट इंडिया मूवमेंट की पहली वर्षगांठ पर गुरूवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल संवाद के ज़रिये भारत के फ़िटनेस आइकॉन कहे जाने वाले लोगों से बात की। इस दौरान भारतीय क्रिकेट जगत से जुड़े वरिष्ठ व युवा खिलाड़ी से पीएम मोदी ने उनके फ़िटनेस का राज जाना। साथ देशवासियों को फिट रहने के तमाम जानकारी संवाद के द्वारा दी गई। यहां मॉडल एक्टर, फ़ुटबॉलर पैरालंपियन आदि दिग्गज लोग शामिल रहे।

कोहली से पीएम मोदी ने फ़िटनेस का जाना राज

Virat kohli gives a Challenge to PM Modi and then

आईपीएल के बीच समय निकालकर इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने पर पीएम मोदी ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का आभार व्यक्त किया। कहा कि आपका तो नाम भी विराट है और काम भी विराट है। इसपर कोहली ने पीएम का आभार जताया। इसके बाद मोदी ने उनके फिटनेस रूटीन के बारे में पूछा। वहीं, जवाब में विराट ने कहा कि बदलते दौर में दिनचर्या में काफी बदलाव हुए है।

ऐसे में अपनी जीवनशैली को सुधार पाना बहुत बड़ी चुनौती है। हालांकि आज के दौर में फिटनेस बहुत जरूरी है, कहा कि मुझे एक बड़ा बदलाव देखने को मिला। जिस पीढ़ी में हमने खेलना शुरू किया उस दौर में फिटनेस को लेकर काफी चीजें बदलीं। हमें खुद से महसूस होना चाहिए कि क्या बदलना है। पहले खेल को अच्छा करने के लिए फिटनेस सेशन शुरू किया था लेकिन अब ये मेरी लाइफ का हिस्सा बन चुका है, फिटनेस केवल शारीरिक रूप से नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी फिट रहने के लिए बेहद जरूरी है।

दिल्ली के छोले भटूरे के ज़िक्र पर कोहली ने भरे ठहाके

पीएम मोदी ने कोहली से दिल्ली के छोले-भटूरे का ज़िक्र किया। जिसपर पर विराट ने हंसते हुए कहा कि हां,लेकिन मैंने अपनी नानी को देखा जो घर का खाना खाती थीं और स्वस्थ रहती थीं, इसके लिए पहले मैं जब प्रैक्टिस करता था, बाहर का काफी खाना खाता था। अब लेकिन काफी चीजें बदली हैं।

मुझे बाद में लगा कि फिटनेस को लेकर काम करने की जरूरत है क्योंकि अगर आप फिट नहीं होंगे तो काफी कुछ चीजें नहीं कर पाएंगे, जिसके लिए डाइट पर भी ध्यान देने की बहुत जरूरत है। इसलिए एक निश्चित समय पर और पर्याप्त मात्रा में भोजन करना चाहिए।

खिलाड़ियों के लिए यो-यो टेस्ट है ज़रूरी

Virat Fitness Kamal News

मोदी ने यो-यो टेस्ट को लेकर भी विराट से चर्चा की। जिसमें ने बताया कि यो-यो एक फिटनेस लेवल का टेस्ट होता है। इस दौरान हर खिलाड़ी को इस टेस्ट को पास होना पड़ता है। अगर टेस्ट में कोई फेल होता है तो। उसे टीम से बाहर होना पड़ेगा। एक टेस्ट गेंदबाज के लिए फिट रहना काफी जरूरी होता है।