i

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट के मुकाबले काफी रोमांचक होते हैं. पिछले कुछ दिनों से दोनों देशों ने सिर्फ आईसीसी के बड़े मुकाबलों में खेला है. वही पाकिस्तान के एक युवा तेज़ गेंदबाज महिंदर पाल सिंह का सपना है कि वह अपने देश के लिए इंटरनेशनल स्तर पर खेलने वाले सिख समुदाय के पहले व्यक्ति बनें. चिर प्रतिदंदी भारत के खिलाफ खेलते हुए स्टारडम हासिल करना चाहते हैं.

टीम इंडिया को हराने का सपना हैं इस पाकिस्तान गेंदबाज का

mahinder pal pak 1403twitter 875

पाकिस्तान के युवा तेज़ गेंदबाज महिंदर पाल सिंह ने कहा कि

“मेरे लिए पाकिस्तान के लिए भारत के खिलाफ क्रिकेट के किसी भी स्तर पर खेलना बहुत मायने रखता है. अगर आप किसी भी क्रिकेटर से पूछेंगे तो वह कहेगा कि वह उच्च दबाव वाले मैचों में खेलना चाहता है, जो कि एक बड़ा मौका है और जिस पर दुनिया की नजरें होंगी. भारत बनाम पाकिस्तान मैच हमेशा एक विशेष अवसर होता है.”

मुझे नायक कहलाना पसंद हैं

maxresdefault 1

इस गेंदबाज ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि

“मैं भविष्य में अपने क्रिकेट करियर में कभी इस अवसर का हिस्सा बनना पसंद करूंगा. मैं एक ऐसे मैच में नायक कहलाना पसंद करूंगा. जो एक मजबूत प्रतिदंदी के खिलाफ हो और जिसे दुनियाभर के प्रशंसक देख रहे हों. भारत के पंजाब में मेरे रिश्तेदार हैं. मेरे कई रिश्तेदार वहां रहते हैं जिसने हम नियमित रूप से मिलने हैं. साथ ही भारत में मेरे बहुत सारे प्रशंसक हैं, खासकर पंजाब में, जो हमेशा मुझे शुभकामनाएं देते हैं और कहते हैं कि अगर मैं कभी पकिस्तान के लिए खेला तो वे उन मैचों में मेरा और पाकिस्तान का समर्थन करेंगे.”

इस सिख गेंदबाज ने कहा मेरा आईडल वकार यूनुस

Pakistan bowling coach Waqar Younis: 'Pakistan bowlers will get better with time'

उन्होंने ने कहा कि उनके आदर्श वकार यूनुस हैं. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ( पीसीबी ) द्वारा घरेलू फॉर्मेट को बदलने और विभागीय टीमों को खत्म करने के निर्णय के बाद महिंदर पाल सिंह को नुक्सान उठाना पड़ा है. उन्होंने कहा मैं पिछली बार ग्रेड दो में खेला था, लेकिन दुर्भाग्य से कई खिलाड़ी, जो विभागों के लिए खेल रहे हैं उन्हें अनुबंध का प्रस्ताव नहीं दिया गया.”

इस खिलाड़ी से पहले भी पकिस्तान के युवा खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया है. उन्होंने अपनी काबिलियत और कला का अनोखा नज़ारा दिखाते हुए, अपने टीम के अनुभवी और दिग्गज खिलाड़ी का दिल जीता है. जिसमें आमिर, युसूफ जैसे युवा और बड़े गेंदबाज शामिल है. इनकी गेंदबाजी के से सामने बड़े से बड़े बल्लेबाज खड़े होने में डरते है.