Pic credit: hindustan times

जसप्रीत बुमराह की भारतीय टीम में वापसी जीत के साथ हुई हैं। बीते 1 अगस्त से शुरू हुए 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के तीसरे मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को हरा वापसी का संकेत दे दिया है। यूँ तो अभी भी इस सीरीज का स्कोर 2-1 से इंग्लैंड के पक्ष में है। लेकिन यह जीत अगले दो टेस्ट मुकाबलों के लिए सहायक साबित होगी। बुमराह ने इस मुकाबले में कुल 8 विकेट अपने नाम किए। उनके प्रदर्शन ने यह दर्शा दिया हैं कि भारतीय टीम के मौजूदा दौर में वह सबसे महत्वपूर्ण तेज गेंदबाज क्यों माने जाते हैं।

भारतीय बल्लेबाजों की लय में वापसी

पहले दो टेस्ट मुकाबलों के बाद अगर भारतीय बल्लेबाजों का स्कोर कार्ड देखा जाए तो विराट कोहली के अलावा सबकी बल्लेबाजी बेरंग थी। लेकिन ट्रेंट ब्रिज में खेले गए तीसरे मुकाबले में भारतीय बल्लेबाजों का रंग सर चढ़ कर बोला।

Pic credit: Getty images

पहली पारी में जहां कप्तान कोहली ने 97 रनों की पारी खेली, वहीं उप कप्तान अजिंक्ये रहाणे भी पीछे नहीं दिखे। लय से बाहर चल रहे रहाणे ने लम्बे समय बाद अर्धशतकीय पारी खेली। रहाणे के बल्ले से 81 रनों का योगदान भारत के टीम स्कोर में रहा।

Cheteshwar pujara said "Indian will definitely beat England in test series
Indian Express

बात अगर दूसरी पारी की कि जाए तो भारत के मौजूदा ग्रेट वॉल माने जाने वाले पुजारा के बल्ले से इस दौरे का उनका पहला अर्धशतक निकला। इस पारी में पुजारा ने 208 गेंदों का सामना कर 72 रन मारे। वहीं कप्तान विराट कोहली ने अपना लय बरकरार रखतेे हुए अपने टेस्ट कैरियर का 23वां शतक जड़ दिया। 10 चौकों की बौदौलत विराट ने 103 रनों की पारी खेली।

बुमराह ने वापसी के साथ तोड़े रिकॉर्ड

बुमराह भारतीय टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में पहले चार मुकाबलों में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं। इस टेस्ट मुकाबले में बुमराह ने कुल 8 विकेट अपने नाम किए।

Pic credit: Getty images

इंग्लैंड के खिलाफ एक ही इनिंग में पांच विकेट बुमराह ने अपने नाम किए। ऐसा कर बुमराह तीसरे भारतीय गेंदबाज बन गए हैं जिन्होंने अपने टेस्ट कैरियर के पहले चार टेस्ट मुकबलों में 2 बार 5 विकेट हासिल किए हैं।

पांड्या ने किया सबका मुँह बंद

पहले दो टेस्ट मुकाबलों में हार के बाद भारत के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या पर टीम से बाहर बैठने का खतरा मंडरा रहा था। पहले दो टेस्ट मुकाबलों के बाद हार्दिक पांड्या के स्कोरकार्ड पर 90 रन थे और साथ ही मात्र 3 विकेट।


Photo by Tharaka Basnayaka/NurPhoto via Getty Images)

लेकिन ट्रेंट ब्रिज में खेले गए तीसरे टेस्ट के बाद हार्दिक की कहानी बदल सी गई हैं। अब अगर तीन टेस्ट के बाद उनके द्वारा मारे गए रनों की बात कि जाए तो पांड्या ने अपने इंग्लैंड दौरे की टेस्ट बल्लेबाजी में 160 रनों का योगदान भारतीय टीम के लिए कर दिया हैं। वहीं गेंदबाजी में दो टेस्ट मुकाबलों के बाद अपने खाते में मात्र 3 विकेट जोड़ने वाले पांड्या ने अब ट्रेंट ब्रिज टेस्ट के बाद 9 विकेट जोड़ दिए हैं। ट्रेंट ब्रिज टेस्ट में उन्होंने कुल 6 विकेट अपने नाम किए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here