ब्रेड हॉज,

इंडियन प्रीमियर लीग अपने 11वें संस्करण के करीब करीब आखिरी पड़ाव पर है. आज का मैच होते ही प्लेऑफ का समीकरण स्पष्ट हो जाएगा. सुपर संडे के आज दो मुकाबला होना है. जिसमें दोनों ही मुकाबलें प्लेऑफ की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण हैं. पहले मैच में जहां मुंबई इंडियंस दिल्ली को हराकर अंतिम चार में जगह बनाना चाहेगी वहीं दूसरे मैच में किंग्स इलेवन पंजाब चेन्नई के खिलाफ करो या मरो वाला मुकाबला खेलेगी.

पंजाब के इस समय 12 अंक हैं. मुंबई इंडियंस के भी इतने ही अंक हैं. स्थिति ऐसी है जिन टीमों के आखिर में बराबर अंक होंगे वही टीम प्लेऑफ में जा सकती है. राजस्थान के खिलाफ हार के बाद आरसीबी पहले ही टूर्नामेंट से बाहर हो गई है. ऐसे में नेट रन रेट को अच्छा रखने के लिए पंजाब को बड़े अंतर से चेन्नई को मात देनी होगी.
टूर्नामेंट की शुरुआत में यह टीम टॉप पर थी लेकिन जैसे जैसे आईपीएल 11 का कारवा आगे बढ़ता गया यह टीम निरंतर लुढ़कती गयी. आज नौबत यह आ गयी है कि अंतिम चार में जगह बनाने को इस टीम के लिए लाले पड़े हैं. टीम के इस प्रदर्शन से पंजाब के हेड कोच ब्रेड हॉज भी बेहद निराश हैं. उन्होंने शनिवार को अपनी टीम के लचर प्रदर्शन पर बोलते हुए कहा कि

टीम के मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे और गेंदबाजी में भी सिर्फ दो गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया. रविचंद्रन अश्विन की कप्तानी में किंग्स इलेवन पंजाब ने इंडियन प्रीमियर लीग में शानदार शुरूआत की थी लेकिन वे उसे बरकरार नहीं रख सके.
हॉज ने कहा कि “मुझे लगता है कि लंबे समय तक लगातार जीतते रहने के मामले में यह प्रतियोगिता काफी कठिन है. हम नए कप्तान के साथ नई टीम हैं. हमने अपनी सफलता और असफलता से काफी कुछ सीखा है.”

चेन्नई के खिलाफ अहम मुकाबले से पहले हॉज ने कहा कि ‘मैं यथार्थवादी सोच रखता हूं, हमारा मिडिल ऑर्डर वैसा नहीं चला जैसी उनसे उम्मीदें थी. इसके साथ ही हम कुछ (दो) गेंदबाजों पर बहुत ज्यादा निर्भर करते हैं जो हमें मैच में बनाए रखते हैं.’

Anurag Singh

लिखने, पढ़ने, सिखने का कीड़ा. Journalist, Writer, Blogger,

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *