sac

पुणे: भारतीय क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले लिटिल मास्टर सचिन तेंदुलकर ने पुणे में स्पोर्ट जर्नलिस्ट सुनंदन लेले को इंटरव्यू के दौरान सावित्रीबाई फूले पुणे यूनिवर्सिटी में मिशन यंग एंड फिट इंडिया को संबोधित करते हुए कहा कि सभी स्कूलों में बच्चो को बचपन से ही स्पोर्ट के बारे में बताया जाना चाहिए.

Related image

 

खेल से ज्ञान तथा स्वास्थय दोनों को लाभ 

सचिन ने कहा कि खेल को जरुरी सब्जेक्ट बनाने से आपकी खेल के प्रति सिर्फ जानकारी में ही इजाफा नहीं होगा बल्कि, खेल के प्रति रूचि से आपका स्वस्थ्य भी अच्छा रहेगा जिससे आपको दोहरा लाभ होगा.खेल सिर्फ एक प्रारूप में नहीं होता बल्कि, कई खंडो में विभाजित होता है,परन्तु लाभ हर एक बराबर होता है चाहे वो क्रिकेट हो या हॉकी अथवा फुटबॉल सभी आपके ज्ञान के साथ साथ स्वस्थ्य को भी अच्छा रखते है जो हर मनुष्य चाहता है.

Image result for खेल और स्वास्थ्य

  • कई महान खिलाड़ी है गुमनाम 

मिशन यंग एंड फिट इण्डिया को संबोधित करते हुए सचिन ने कहा कि बच्चो को खेल के इतिहास को पढने में उन बड़े खिलाडियों का पता चलेगा जिसे शायद ही लोग जानते हो.उन्होंने कहा कि बहुत सारे ऐसे भी ख़िलाड़ी है, जिन्होंने खेल के लिए बहुत मेहनत कि है और भारत का नाम भी रोशन किया है किन्तु,उनको कुछ ही लोग जानते है. यदि खेल को जरूरी विषय बना दिया जाए तो कई लोग उन महान खिलाड़ियों से सीख लेकर अपने जीवन को उचित रह पर ले जा सकते है और बहुत कुछ सीख सकते हैं.

Image result for SACHIN PRESS CONFERENCEस्कूल में बच्चो को केवल भारतीय इतिहास ही नहीं बल्कि भारतीय स्पोर्ट के इतिहास के बारे में भी बताना चाहिए उन्होंने यह भी कहा कि खेल के इतिहास को सभी के लिए जरूरी सब्जेक्ट बनाना चाहिए ताकि सारे देशवाशियों को खेल के तथा  खिलाड़ियों के बारे में अच्छी जानकारी हो सके “

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *