भारत के चाइनामैन स्पिनर कुलदीप यादव ने चेतेश्वर पुजारा और रोहित शर्मा को नेट्स में गेंदबाजी करने के लिए सबसे मुश्किल बल्लेबाज के रूप में चुना है. टेस्ट फॉर्मेट के लिए जहां कुलदीप ने पुजारा के नाम का चयन किया, तो सीमित ओवर फॉर्मेट में उपकप्तान रोहित शर्मा को चुना.

पुजारा को आउट करना मुश्किल नहीं नामुमकिन

image by : bcci.tv

यह बात हम सभी बहुत अच्छे से जानते है कि चेतेश्वर पुजारा किस प्रकार के बल्लेबाज है. पुजारा को एक ठोस खिलाड़ी के रूप में जाना जाता है और इतना ही नहीं नेट्स पर बल्लेबाजी करते हुए भी अपने विकेट की कीमत लगाते हैं.

पुजारा भारतीय टेस्ट बल्लेबाजी क्रम की रीढ़ की हड्डी माने जाते हैं. दाएं हाथ के बल्लेबाज को अपने ठोस स्वभाव के लिए जाना जाता है और वह विपक्षी गेंदबाजों को लंबे समय तक परेशान करने में माहिर हैं. साल 2018-19 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मेजबान टीम के गेंदबाजों की हालत पतली करने के लिए पुजारा ने पूरी श्रृंखला में 1100 से  अधिक गेंदों का सामना किया था.

सौराष्ट्र का बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा अपने लक्ष्यों में पक्के माने जाते है और उन्हें नेट्स पर कभी भी लापरवाह शॉट्स लगाते नहीं देखा गया. इसी करण पुजारा को नेट्स पर आउट करना बहुत ही कठिन माना जाते है.

शर्मा जी भी कम नहीं

image by: twitter

वहीं बात अगर रोहित शर्मा की करे तो आज के मौजूदा समय में हिटमैन को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ सीमित ओवर का बल्लेबाज माना जाता हैं. रोहित बहुत जल्द ही गेंद की लाइन और लेंथ को नाप लेते है और अपनी ही टीम को गेंदबाजों के खिलाफ नेट्स पर बड़े शॉट लगाने में नहीं कतराते. रोहित शर्मा उन खिलाड़ियों में से एक है, जो हर एक गेंद को सीमा रेखा या मैदान से बाहर मरने की क्षमता रखते हैं.

सीमित ओवर में अपने बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर रोहित ने यह बताया है कि किसी भी गेंदबाज का उनके सामने गेंदबाजी करना इतना आसान काम नहीं है. वास्तव में, रोहित उन बल्लेबाजों में से एक हैं, जो अच्छी से अच्छी गेंद को भी बाउंड्री के बाहर पहुंचा सकते हैं।

क्या कहते है कुलदीप

image by : kkr instagram

टीम इंडिया के मुख्य स्पिन गेंदबाजों में से एक कुलदीप यादव ने हाल में ही क्रिकेट डॉट कॉम से खास बातचीत के दौरान अपने बयान में कहा,

“नेट्स में सबसे मुश्किल बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा हैं. वह किसी भी गेंदबाज के खिलाफ बहुत अच्छा खेलता है, खासकर टेस्ट क्रिकेट में, टेस्ट में पुजारा को गेंदबाजी करना बहुत मुश्किल है. एकदिवसीय प्रारूप में यह काम रोहित शर्मा का हैं. वे बड़े शॉट्स के लिए जाने से नहीं डरते.  तो सब लोग अच्छे हैं.

कुलदीप यादव ने भी सीमित ओवर के प्रारूप में शानदार प्रदर्शन किया है. चाइनामैन ने अब तक 60 एकदिवसीय मैचों में 104 विकेट झटके हैं और उन्होंने 20 टी20I मैचों में 39 विकेट झटके हैं. यादव ने केवल छह टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 24 विकेट लिए हैं.

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...