मुंबई

क्रिकेट अनिश्चिंताओं का खेल है, कोई क्रिकेट पंडित इस बात का दावा नहीं कर सकता कि अगली गेंद पर क्या होगा। इसलिए क्रिकेट के मैदान पर अक्सर एक से बढ़कर एक कारनामा देखने को मिलता रहता है। कभी कोई टीम विरोधी टीम के सामने पहाड़ जैसा स्कोर बोर्ड पर टांग देती है, तो कोई टीम ताश के पत्तों की तरह ढेर हो जाती है। कुछ ऐसा हैरअंगेज कारनामा विमेंस सीनियर वनडे ट्रॉफी के एक मुकाबले में हुआ।

दरअसल विमेंस सीनियर वनडे ट्रॉफी 2020-21 के एक मुकाबले में मुंबई की टीम ने नगालैंड को महज 17 रनों के स्कोर ढेर कर दिया, और खास बात यह रही की मुंबई ने यह लक्ष्य मात्र 4 गेंदों में हासिल कर लिया।

बेहद शर्मनाक रहा नागालैंड का प्रदर्शन

Capture 6

इंदौर के होल्कर स्टेडियम में सीनियर वनडे ट्रॉफी 2020-21 का यह मुकाबला मुंबई और नागालैंड के बीच में खेला गया, इस मुकाबले में नागालैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, जो कि नागालैंड पर ही भारी पर पड़ गया। इस मैच में मुंबई के गेंदबाजों ने इतनी घातक गेंदबाजी की, कि नागालैंड की टीम को महज 17 रनों के स्कोर पर ढेर कर दिया।

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस वनडे मैच में नागालैंड की टीम ने 17.4 ओवर का सामना किया, लेकिन इतने ओवर खेलने बाद भी वो 17 रन पर ही पहुंच पाई। इस मैच में नागालैंड की टीम की कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू सकी, टीम की 6 खिलाड़ी शून्य पर पवेलियन लौट गई। नागालैंड के लिए सबसे ज्यादा 9 रन सरीबा ने बनाए, जबकि इन 17 रनों में नागालैंड को वाइड से अतिरिक्त 3 रन मिले।

मुंबई ने दी करारी शिकस्त

मुंबई

मंबई की ओर से पहले गेंदबाजी करते हुए कप्तान सयाली सत्घरे ने सर्वाधिक 8.4 ओवर घातक गेंदबाजी करते हुए, 0.5 की इकोनॉमी से 7 नागालैंड की बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया, जबकि एम. दक्ष्शिनी ने दो और एस. ठाकोर ने एक विकेट झटका।

18 रनों का पीछा करने उतरी मुंबई की टीम ने यह लक्ष्य महज 4 गेंदों में बना डाला। मुंबई की ओर से ईशा ओझा ने 4 गेंद पर 13 रन और वरुशाली भगत ने 1 गेंद पर छक्का लगाकर टीम को जीत दिलाई। आपको बता दें कि इन पांच गेंदों में एक नो बॉल थी, जिसके हिसाब से मुंबई ने यह स्कोर महज 4 गेंद में ही पूरा करके मैच जीत लिया।

आपको को बता दें कि इस टूर्नामेंट में ये नागालैंड की लगातार तीसरी हार है। इससे पहले नागालैंड की टीम मध्य प्रदेश के खिलाफ महज 27 रनों पर ढेर हो गई थी, और पंजाब के खिलाफ भी नागालैंड 55 रनों पर ऑल आउट हो गई थी, नागालैंड यह तीनों मैच 10 विकेट से हारी है।