आईपीएल के नए दौर के बीच में चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम दो साल बाद दोबारा आईपीएल में धमाल मचाने आ रही है। स्पोट फिक्सिंग मामले में फंसने के बाद लगे दो साल के बैन खत्म होने के बाद अब चेन्नई सुपरकिंग्स एक बार दोबारा मैदान में है। आईपीएल रिटेंशन से पहले इसमे तो कोई शक था ही नहीं कि चेन्नई की टीम धोनी को रिटेन करेगी। आईपीएल रिटेंशन 2018 में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम ने धोनी को रिटेन भी किया और उन्हें दोबारा कप्तान भी बनाया। धोनी की नेतृत्व करने वाली धोनी की चेन्नई सुपरकिंग्स एकमात्र ऐसी टीम है जो आईपीएल में खेले गए आठों सीजन में प्लेऑफ खेली है।

अश्विन को रखने की कोशिश होगी

लिहाजा धोनी को टीम का कप्तान बनाया गया है और धोनी के साथ-साथ उन्हें उनकी पुरानी टीम भी देने की कोशिश की जा रही है। धोनी के साथ-साथ चेन्नई सुपरकिंग्स के फ्रेंचाइजी ने अपने पुराने स्टार प्लेयर सुरेश रैना और रविंद्र जडेजा को भी रिटेन किया है। अब धोनी दोबारा से कप्तानी करने के लिए तैयार हैं और वो अपने हिसाब से टीम मैनेजमेंट से टीम की मांग भी शायद कर रहे हैं।

पुराने खिलाड़ियों को रखना चाहेंगे

धोनी ने कहा कि “वो अपनी टीम में चेन्नई के लोकल प्लेयर को लेना चाहेंगे, जिसमें रविंद्रचंद्र अश्विन शामिल हैं लेकिन वो अश्विन को राइट टू मैच के कार्ड का प्रयोग करके नहीं शामिल कर सकते हैं। क्योंकि नियम के अनुसार रिटेंशन में कोई भी फ्रेंचाइजी अधिकतम 3 ही भारतीय खिलाड़ियों को रिटेन कर सकते हैं औऱ चेन्नई तीन खिलाड़ियों को कर चुका है लिहाजा अश्विन को उन्हें खरीदना पड़ेगा।”

धोनी ने कहा, कि “अश्विन लोकल प्लेयर हैं और उनका इस टीम में रहना काफी फायदेमंद होगा।” धोनी ने दो विदेशी खिलाड़ियों के रिटेंशन के बारे में कहा कि उसके लिए हमारे पास ब्रेंडम मैकुलम, फाफ डू-प्लेसी, डवेन ब्रावो जैसे प्लेयर हैं। लेकिन हमें ये सुनिश्चित करना पड़ेगा किसे कहां कब और कैसे उपयोग करना है।

अश्विन को हम रिटेन कर नहीं सकते क्योंकि पहले तीन भारतीय खिलाड़ियों को रिटेन किया जा चुका है, तो उन्हें हमें निलामी में खरीदना होगा। इन सबसे के लिए हमें इंतजार करके देखना पड़ेगा, हम उन्हें टीम में लाने की पूरी कोशिश करेंगे।

फिर से अच्छी टीम बनाएंगे

BCCI

आगे धोनी ने कहा कि हमे देखना होगा कि “हमारे फ्रेंनचाइजी के पास कितने पैसे बचे हुए हैं, क्योंकि निलामी में हमें उसी हिसाब से टीम बनानी पड़ेगी।”

धोनी ने कहा कि “अगर हमारे पुराने खिलाड़ियों के दाम हमारे पास बचे पैसे से ज्यादा हों,गे तो हम उन्हें नहीं ले सकते। हमने पहले भी देखा है कि बाकी की टीम कैसे सीएसके के प्लेयर्स को अपने टीम में लेने की कोशिश करती थी। तो हमें इन सब बातों को ध्यान में रखकर इमोशन को साइड करके एक अच्छी और संपन्न टीम बनाने के बारे में सोचना चाहिए।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *