CSK 3

MS Dhoni: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज़ रहे महेंद्र सिंह धोनी खेल को सबसे बेहतर समझने के लिए जाने जाते हैं. जिस तरह से धोनी मैदान पर शांत रहकर अपना दिमाग चलाते हैं, शायद ही ऐसा कोई और करता हो. वहीं ऐसा कई बार देखा गया है कि जब धोनी के एक फैसले ने मैच का पूरा रुख पलट दिया हो. धोनी जिस तरह से गेम को समझते हैं वह अविश्वसनीय है.

ऐसे में अब चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व स्टार ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर ने भी एमएस धोनी (MS Dhoni) को याद करते हुए उनकी एक ऐसी चाल का खुलासा किया है, जिसके दम पर सीएसके ने आईपीएल 2021 का फाइनल अपने नाम कर लिया था.

MS Dhoni की इस चाल ने CSK को जिताया था IPL 2021 का खिताब

Shardul Thakur on MS Dhoni

दरअसल, आईपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर की है, जिसमें भारतीय टीम के शार्दुल ठाकुर ने आईपीएल 2021 के फाइनल को याद करते हुए एमएस धोनी (MS Dhoni) को लेकर बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने बताया कि आखिर कैसे धोनी की एक चाल से सीएसके को आईपीएल का एक और खिताब जितवा दिया. शार्दुल ने बताया कि,

“मुझे नहीं पता माही भाई के दिमाग में क्या चल रहा था. उन्होंने ब्रावो को लॉग-ऑन पर भेज दिया था. वह उनसे पीछे जाने को कह रहे थे. माही भाई ने मुझसे कहा तुम कैसे गेंदबाज़ी करना चाहते हो. मैंने बोला, आप बताइए आप जो भी कहोगे मैं वो करने में कंफर्टेबल हूं.”

“मैंने अच्छी गेंदबाज़ी की, लेकिन यह धोनी की महानता है”

Shardul Thakur on MS Dhoni-IPL 2021 Final

30 वर्षीय शार्दुल ठाकुर ने आगे किस्सा सुनाते हुए इस बात का भी ज़िक्र किया कि भले ही उन्होंने फाइनल मुकाबले में अच्छी गेंदबाज़ी की हो. लेकिन वह एमएस (MS Dhoni) की महानता थी. शार्दुल ने आगे आईपीएल 2021 के फाइनल का किस्सा याद करते हुए बताया कि,

“उन्होंने मुझसे मिड-ऑफ सर्कल में रखने को कहा और उसकी अगली गेंद पर वेंकटेश अय्यर आउट हो गया. थोड़ी देर बाद नितीश राणा भी आउट हुआ और अचानक ही हमें मोमेंटम मिल गया. हां, मैंने अच्छी गेंदबाज़ी की, लेकिन यह धोनी की महानता है. वह ऐसी तनावपूर्ण स्थिति में भी सोचने के लिए वह तर्क और परिणाम लेकर आया.”

बता दें कि आईपीएल 2021 का फाइनल मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच खेला गया था. जिसमें सीएसके ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए केकेआर के सामने 192 रनों का पहाड़नुमा लक्ष्य रखा था. जिसका पीछा करते हुए केकेआर निर्धारित 20 ओवर में 165 रन ही बना पाई थी और 27 रन से मुकाबला हार गई.