MS Dhoni-coach

पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को बीसीसीआई ने आगामी टी20 विश्व कप के लिए टीम इंडिया का मेंटॉर नियुक्त किया है। माही ने भारत को 3 आईसीसी ट्रॉफी जिताई है और अब उनका टीम के साथ जुड़ना यकीनन भारतीय पक्ष के लिए सकारात्मक पहलू होने वाला है। तमाम दिग्गज खिलाड़ी माही के टीम के साथ जुड़ने पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं। इसी क्रम में पूर्व भारतीय क्रिकेटर फारुख इंजीनियर ने बोर्ड के इस फैसले पर सहमति जताई है।

MS Dhoni ने जो छुआ उसे सोना बना दिया

MS Dhoni

एमएस धोनी (MS Dhoni) ने भारत को 2007 में टी20 विश्व कप, 2011 में एकदिवसीय विश्व कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जिताई। वह दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं, जिन्होंने तीनों आईसीसी ट्रॉफी जीती है। अब माही को मेंटॉर बनाए जाने पर फारुख इंजीनियर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा,

“मैं एमएस धोनी को इस भूमिका में देखकर थोड़ा हैरान था, लेकिन क्यों नहीं? आईपीएल में मेंटर हैं। धोनी के पास हमेशा मिडास टच रहा है। उसने जो कुछ भी छुआ है वह सोना बन गया है। मुझे उम्मीद है कि धोनी हमारे लिए भी अतिरिक्त भाग्य लाएंगे। निश्चित रूप से, उनका ज्ञान बेहद उपयोगी होगा। वह एक टी20 विश्व कप विजेता कप्तान, आखिरकार।”

ड्रेसिंग रूम पर पड़ेगा प्रभाव

फारुख इंजीनियर ने आगे इस बात पर फोकस किया कि MS Dhoni के टी20 विश्व कप के दौरान ड्रेसिंग रूम में होने पर भारतीय खिलाड़ियों को फायदा मिलेगा। उन्होंने कहा,

“इसलिए, ड्रेसिंग रूम में उनकी उपस्थिति का टीम पर बहुत प्रभाव पड़ेगा। एक मेंटर क्या करता है? यह एक मानद चीज है, सम्मान की बात है। सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस के लिए एक मेंटर हैं। सचिन और धोनी जैसे दिग्गजों का होना एक प्यारी बात है। हमारे समय में, एक बार जब आप खेल छोड़ देते थे, तो लोग हमें भूल जाते थे। लेकिन अगर आप खेल को अच्छा खेलते थे या एक आकर्षक क्रिकेटर थे, तो प्रशंसक हमेशा आपको याद रखेंगे और बात करेंगे।”

MS Dhoni देंगे चतुर सुझाव

MS Dhoni

MS Dhoni के पास एक चतुर दिमाग है और उनके पास क्रिकेट को पढ़ने की क्षमता दूसरों से अधिक है। ये क्वालिटी उन्हें और भी ज्यादा खास बनाती है। फारुख इंजीनियर का मानना है कि माही कप्तान विराट कोहली व कोच शास्त्री को चतुर सुझाव दे सकते हैं। इंजीनियर ने कहा,

“इस स्तर पर, खिलाड़ियों को सिखाया नहीं किया जाता है। एक कोच आपकी मदद कर सकता है और आपका थोड़ा-बहुत मार्गदर्शन कर सकता है। कुछ चीजें इधर-उधर या कुछ तकनीकी पहलुओं पर। मुझे लगता है कि वह किसी के साथ हस्तक्षेप करने वाले जैसे नहीं हैं। वह एक अच्छा ग्राहक हैं। अगर वह देखते हैं कि कुछ गलत है या बेहतर किया जा सकता है, तो मुझे यकीन है कि वह रवि या विराट को बहुत चतुर तरीके से सुझाव देंगे।”