MS Dhoni-RR-CSK

सुपर शनिवार में चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स (CSK vs RR) के बीच खेला गया दूसरा मुकाबला बेहद रोमांचक रहा. टॉस हारकर एमएस धोनी (MS Dhoni) की टीम ने राजस्थान की टीम को जीतने के लिए 190 रन का लक्ष्य दिया था. जिसका पीछा करने उतरी संजू सैमसन (Sanju Samson) की टीम ने इस मैच को 15 गेंद शेष रहते ही जीत लिया. साथ ही प्ले-ऑफ में जगह बनाने की उम्मीद को भी जिंदा रखा है. टॉस जीतकर सैमसन गेंदबाजी का फैसला करते हुए धोनी को बल्लेबाजी का न्योता दिया था. परिणामस्वरूप पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई ने 4 विकेट के मुकसान पर 190 रन का लक्ष्य खड़ा किया था.

बड़ा स्कोर करने के बाद भी सीएसके ने यूएई लेग में गंवाया पहला मैच

MS Dhoni

आज के इस मैच में दोनों टीमों की ओर से ताबड़तोड़ बल्लेबाजी हुई. लेकिन, रूतुराज की शतकीय (101*) पारी बर्बाद हो गई. क्योंकि चेन्नई को इस मैच में 7 विकेट से करारी हार का सामना करना पड़ा है. खास बात तो ये है कि, यूएई लेग में 190 रन अब तक का सबसे बड़ा स्कोर था. जिसका पीछा करने उतरी राजस्थान की ओर से पहले यशस्वी जायसवाल ने 19 गेंद में अर्धशतक जड़ा. इसके बाद शिवम दुबे ने सीएसके के गेंदबाजों के नाक में दम कर दिया था.

 

राजस्थान की ओर से अपना पहला मैच खेलते हुए उन्होंने अपना एक अलग ही रूप दिखाया. क्रीज पर उतरने के बाद से ही उन्होंने सीएसके के गेंदबाजों को अपना निशाना बनाया. महज 42 गेंद में 4 चौके और 4 छक्के की मदद से उन्होंने 64 रन की नाबाद पारी खेलते हुए अपनी टीम को शानदार जीत दिलाई. वहीं एमएस धोनी (MS Dhoni) की टीम एक बड़ा स्कोर खड़ा करने के बाद भी इस मुकाबले पर जीत हासिल नहीं कर सकी. यूएई में ये चेन्नई की पहली हार रही.

चेन्नई के कप्तान को आई ब्रावो और चाहर की याद

photo 2021 10 03 00 11 45

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मिली करारी शिकस्त के बाद इस बारे में बात करते हुए चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) ने कहा कि,

“शुरुआत में टॉस हारना हमारे लिए सही नहीं था. लेकिन, मुझे लगता है कि रॉयल्स के बल्लेबाजों ने वास्तव में अच्छी बल्लेबाजी की. मैदान पर ओस थी और गेंद अच्छी तरह से बल्ले पर आने लगी थी. फिर भी आपको अच्छी बल्लेबाजी करने की जरूरत थी और उन्होंने यही किया और गेंदबाजों पर दबाव भी डाला. उन्होंने पहले 6 ओवर में ही खेल को छीन लिया. 250 (चेतावनी- कटाक्ष) के करीब लक्ष्य होता जिस तरह से वो बल्लेबाजी कर रहे थे. एक लंबे लक्ष्य का पीछा करते हुए पावरप्ले में यह एक आदर्श शुरुआत था.

मुझे लगता है कि शुरू में गेंद थोड़ा रुक रही थी. जैसे-जैसे पारी आगे बढ़ी गेंद अच्छी तरह से बैट पर आने लगी. रूतु की पारी काफी बेहतरीन थी. उन्होंने हमें 190 तक पहुंचाने के लिए बहुत अच्छी बल्लेबाजी की. टी 20 में आप कड़ी मेहनत करते हैं और फिर महसूस करते हैं कि यह 160-180 रन का विकेट नहीं है. ड्वेन और दीपक को निश्चित रूप से मैंने याद किया”.