moodyd e1613994825139

सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व खिलाडी टॉम मूडी भारतीय टीम का अगला कोच बन सकते हैं. टी-20 विश्व कप के बाद भारत के तात्कालिक कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल समाप्त होने जा रहा है. ऐसे में टीम इंडिया को एक नए कोच की जरुरत है. इसके लिए कई सारे दिग्गजों के नामों पर चर्चा हुई है. अब खबर यह सामने आ रही है कि, सनराइजर्स हैदराबाद के क्रिकेट निदेशक टॉम मूडी, टी 20 विश्व कप 2021 के समापन के बाद रवि शास्त्री को टीम इंडिया के मुख्य कोच के रूप में बदलने के लिए तैयार हैं.

डेविड वार्नर को बाहर करने की टॉम मूडी रची थी साजिश

warner

वास्तव में, डेविड वार्नर को सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान के रूप में बर्खास्त करना मूडी की योजना को शीर्ष पर लाने की योजना का एक हिस्सा था. सीजन की शुरुआत में SRH के कप्तान रहे वार्नर को पहले कुछ मैचों में टीम के खराब प्रदर्शन के बाद बीच में ही बर्खास्त कर दिया गया था. इतना ही नहीं, वार्नर को प्लेइंग इलेवन से भी हटा दिया गया था क्योंकि केन विलियमसन ने नेतृत्व की भूमिका संभाली थी. यह वास्तव में टीम प्रबंधन का एक चौंकाने वाला निर्णय था क्योंकि वार्नर आईपीएल इतिहास के सबसे सफल बल्लेबाजों में से एक हैं. और, उन्होंने 2016 में SRH को अपने पहले IPL खिताब को जिताने में सबसे अहम् योगदान दिया था.

सनराइजर्स के मालिक बीसीसीआई में प्रभावशाली शख्सियत हैं

Sunrisers Hyderabad.svg

ऐसा माना जाता है कि सनराइजर्स के मालिक बीसीसीआई में प्रभावशाली शख्सियत हैं, जो वार्नर को उनके पिछले आधा दर्जन मैचों से बाहर करने और युवाओं की ओर रुख करने के फैसले की व्याख्या कर सकते हैं. वार्नर से भी कई अन्य आईपीएल फ्रेंचाइजी ने संपर्क किया है, जो रन-स्कोरिंग मशीन को दरकिनार किए जाने से हैरान हैं. विशेष रूप से, वार्नर को सीज़न के फिर से शुरू होने के बाद कुछ मौके मिले. हालांकि, वो इन मुकाबलों में 0 और 2 रन ही बना पाए. जिसके बाद इस ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज को फिर से बर्खास्त कर दिया गया. इसके अलावा, वह टीम के साथ स्टेडियम भी नहीं जा सके क्योंकि उन्हें 18-सदस्यीय टीम से बाहर कर दिया गया था.

युवा खिलाड़ियों को मौका देने के लिए ये फैसला लिया गया: बेलिस

trevor bayliss 1618466007

18 सदस्यीय टीम से वार्नर को बहार करने के सवाल पर टीम के मुख्य कोच बेलिस ने कहा,  युवा खिलाड़ियों को मौका देने के लिए ये फैसला लिया गया था. क्योंकि SRH प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो गया था. हम फाइनल में जगह नहीं बना सकते हैं इसलिए हमने फैसला किया है कि हम चाहते हैं कि युवा खिलाड़ी न केवल मैचों का अनुभव करें बल्कि मैदान पर समय का अनुभव करें, और इस मैच के लिए (केकेआर के खिलाफ) हमने फैसला किया. (वार्नर) एकमात्र अनुभवी खिलाड़ी नहीं थे जिन्हें हमने होटल में छोड़ दिया था. कोरोना प्रोटोकॉल के कारण किसी भी टीम के केवल 18 सदस्यीय टीम ही होटल से मैदान पर जा सकती थी.