Pat Cummins2 lg 1

भारत के हाथों ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद से ही ऑस्ट्रेलिया के नियमित कप्तान टिम पेन की कप्तानी पर सवालिया निशान खड़े किए जा रहे हैं। वहीं अब विश्व कप विजेता कप्तान माइकल क्लार्क का मानना है कि तेज गेंदबाज पैट कमिंस को ऑस्ट्रेलिया की तीनों फॉर्मेट की टीम की कप्तानी सौंप देनी चाहिए।

कप्तानी के लिए तैयार हैं पैट कमिंस

पैट कमिंस

भारत के साथ खेली गई बॉर्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस क प्लेयर ऑफ द सीरीज के खिताब से सम्मानित किया गया था। कमिंस आखिर तक अपनी टीम को जीत दिलाने के लिए लड़ते रहे और उन्होंने सीरीज में 4 मैचों में 20.05 के औसत से 21 विकेट अपने नाम किए थे। क्लार्क को स्पोर्ट्सकीडा से बातचीत में कहा कि,

“पैट कमिंस ने हमें दिखाया है कि वह इसके लिए तैयार है। आप इस ऑस्ट्रेलियाई टीम में पैट कमिंस को जो भी जिम्मेदारी देते हैं, वह तैयार है। उसने अपना कैरेक्टर दिखाया है। पैट कमिंस उस सीरीज के प्लेयर ऑफ द सीरीज़ हैं जिसे भारत के हाथों हार मिली थी। पैट कमिंस, वह एक खिलाड़ी है जो ऑस्ट्रेलिया के लिए लगातार अच्छा कर रहा था, इसलिए मुझे लगता है कि हमें स्पष्ट रूप से पैट कमिंस से अच्छी झलक मिली है।”

टिम पेन की कप्तानी पर उठ रहे सवाल

ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच टेस्ट सीरीज में मेजबानों को मिली हार के बाद से ही टिम पेन की कप्तानी पर सवाल उठाए जा रहे हैं। फील्ड पर उनके द्वारा लिए गए फैसले तमाम दिग्गज को खटके और उन्होंने टिम पेन की कप्तानी की आलोचना भी की थी। अब माइकल क्लार्क ने कहा,

“अगर उन्हें ऐसा लगता है कि टिम पेन का टाइम ओवर हो चुका है, तो हम कुछ युवा खिलाड़ियों को ला सकते हैं और मुझे इसमें काफी खुशी होगी, लेकिन पैट कमिंस टीम के लीडर हैं इसलिए उन्हें टीम का कप्तान बनाना चाहिए।”

टीम के सीनियर खिलाड़ियों का चाहिए होगा साथ

पैट कमिंस

साउथ अफ्रीका दौरे के लिए चुनी गई ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम में टिम पेन को कप्तान के रूप में बरकरार रखा गया है। मगर क्लार्क का मानना यहा है कि वक्त आ गया है कि पैट कमिंस क कप्तानी की जिम्मेदारी सौंपी जाए। इसके लिए उन्होंने आगे कहा कि तेज गेंदबाज को टीम के अनुभवी खिलाड़ियों की जरुरत पड़ेगी। क्लार्क ने कहा,

“अगर पैट कमिंस कप्तानी संभालते हैं, तो उन्हें जोश हेजलवुड, नाथन लियोन, स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर जैसे सीनियर खिलाड़ियों की जरुरत होगी। उन्हें जरूरत पड़ने वाली है, साथ ही साथ उनका साथ चाहिए होगा।”