Mayank Agarwal on Rahul Dravid
Mayank Agarwal on Rahul Dravid

न्यूजीलैंड के खिलाफ मुंबई में शुरू हुए दूसरे टेस्ट मैच के पहले दिन मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने ताबड़तोड़ नाबाद शतकीय पारी खेली. इस पारी को देखने वाले हर दर्शक और साथी खिलाड़ी ने उनकी सराहना की और तालियों से उनका स्वागत भी किया. लंबे समय बाद टेस्ट फॉर्मेंट में मिले मौके का फायदा उठाते हुए इस सलामी बल्लेबाज ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया और अपने टेस्ट करियर का चौथा शतक जड़ा. लेकिन, पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद मयंक्र अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने बातचीत के दौरान टीम में अपनी जगह को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. इस बारे में उन्होंने क्या कुछ कहा है इसके बारे में भी आपको बता देते हैं.

इन खिलाड़ियों के होते हुए अंतिम ग्यारह में जगह बनाना मुश्किल

 Mayank Agarwal on Rahul Dravid-mumbai test

दरअसल भारतीय ओपनर बल्लेबाज का मानना है कि केएल राहुल और रोहित शर्मा की वापसी के बाद अंतिम ग्यारह में जगह बनाना उनके लिए आसान नहीं होगा. लेकिन, एकाग्रता बनाए रखने और अपने हाथ की चीजों को नियंत्रित रखने की कोच राहुल द्रविड़ की सलाह से उन्हें काफी फायदा हुआ है. इस बारे में बात करते हुए मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने कहा,

‘‘जब मुझे प्लेइंग इलेवन में चुना गया तो राहुल भाई (द्रविड़) ने मुझसे बात की. उन्होंने मुझसे कहा कि जो मेरे हाथ में है उसे नियंत्रित करो और मैदान में उतर कर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करो. द्रविड़ भाई ने मुझसे ये भी कहा था जब आपको अच्छी शुरुआत मिल जाए तब उसे बड़ी पारी में बदलने प्रयास करो. मुझे जो शुरुआत मिली थी उसे भुनाने में खुशी है. लेकिन, राहुल भाई की ओर से वह संदेश बिल्कुल स्पष्ट था कि मैं इसे यादगार बनाऊं.’’

इंग्लैंड में जो हुआ वो मेरे लिए दुर्भाग्यपूर्ण था

 Mayank Agarwal

इसी के साथ ही उन्होंने इस बात का दुख भी जताया कि इंग्लैंड में उनकी किस्मत ने उन्हें धोखा दे दिया. इंग्लैंड दौरे पर नेट सत्र के दौरान उन्हें मोहम्मद सिराज की गेंद सिर पर लग गई थी जिसके वजह से उन्हें मौका नहीं मिल सका था और केएल राहुल को ओपनिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. इस बारे में मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने कहा,

‘‘यह मेरे लिए दुर्भाग्यपूर्ण था कि मैं इंग्लैंड में नहीं खेल सका. मुझे चोट लग गई थी और मैं इसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं कर सकता था. मैंने इसे स्वीकार कर लिया था और कड़ी मेहनत करना जारी रखा और अपनी प्रक्रिया और खेल पर काम करना भी जारी रखा था.’’

धैर्य और दृढ़ संकल्प के बारे में थी ये पारी- सलामी बल्लेबाज

 Mayank Agarwal Interview

मुंबई के वानखेड़े में खेली गई शतकीय पारी सलामी बल्लेबाज के लिए ‘धीरज और खुद से किए हुए संकल्प’ के बारे मे थी. इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने कहा,

‘‘मुझे लगता है कि यह पारी धैर्य और दृढ़ संकल्प के बारे में ज्यादा थी. इसमें प्लानिंग के साथ रहने के लिए अनुशासित होना जरूरी था. मुझे पता है कि मैं कभी-कभी अच्छा नहीं दिखता था लेकिन, मैंने अपना काम किया.’’

बता दें टीम इंडिया ने पहले दिन का खेल खत्म होने तक 4 विकेट खोकर 221 रन बनाए हैं. इस समय क्रीज पर मयंक के साथ साहा (नाबाद 25) टिके हुए हैं.