4d67353a bfaf 40df ab73 5c9f30a25ef4

अगर कोई क्रिकेट को अपना करियर बनाना चाहता है तो उसे अपने कई सपनों का त्याग करना होगा, और अगर परिस्थिति बनी तो आपको अपने घर और परिवार से भी दूर रहना पड़ सकता है। इसी क्रम में आज हम बात करेंगे भारत के एक ऐसे क्रिकेटर के बारे में जिसे क्रिकेटर बनने के लिए 11 वर्ष की उम्र में ही अपने घर और माता-पिता से दूर होना पड़ा। घर से दूर रह कर वह एक जबरदस्त क्रिकेटर बना और अब आईपीएल में जबरदस्त प्रदर्शन करके अपने आप को एक बेहतर बल्लेबाज साबित किया।

राजस्थान रॉयल्स के लिए बने संकटमोचक

ec4e7b76 506a 40c0 93bf 41ba6ac8681e 1

हम बात कर रहे हैं आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स का प्रतिनिधित्व करने वाले 20 वर्षीय स्टार क्रिकेटर महिपाल लोमरोर के बारे में जिन्होंने IPL 2020 के 15वें मुकाबले के दौरान रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाफ मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई।

लोमरोर मुकाबले में तब बल्लेबाजी करने मैदान पर आए उस वक्त राजस्थान रॉयल्स बड़ी मुश्किल में फंसी हुई थी क्योंकि टीम के टॉप ऑर्डर बल्लेबाज स्टीव स्मिथ, जोस बटलर और संजू सैमसन जल्दी आउट होकर वापस पवेलियन लौट गए थे। महिपाल लोमरोर ने मुकाबले में आते ही टीम को संभाला और 39 गेंदों पर 3 छक्के और 1 चौके के बदौलत 47 रन बनाए। अगर महिपाल लोमरोर क्रिकेटर बनने की कहानी पर गौर करें तो उन्होंने इस सफर में काफी संघर्ष किया।

महिपाल लोमरोर के संघर्ष की कहानी

1968c95a 351b 4a2b 85a2 5e9aaf77967d

महिपाल लोमरोर 16 नवंबर 1999 में नागौर राजस्थान में पैदा हुए, 11 वर्ष की उम्र में महिपाल के पास क्रिकेट खेलने का जुनून था जिसकी वजह से उनके पिता चाहते थे कि महिपाल लोमरोर बड़े क्रिकेटर बने. लेकिन समस्या यह थी कि उनके आसपास क्रिकेट सीखने की सुविधाएं अच्छी नहीं थी, जिसके बाद उनके पिता ने 11 वर्ष की उम्र में उन्हें नागौर से जयपुर भेज दिया, महिपाल लोमरोर के साथ ही उनकी दादी जयपुर शिफ्ट हो गई.

उनकी दादी ने उनकी काफी अच्छे से देखरेख की और महिपाल ने क्रिकेट के मैदान में खूब मेहनत की जिसके बदौलत 6 अक्टूबर 2016 को 16 साल की उम्र में उन्हें राजस्थान की ओर से रणजी ट्रॉफी में डेब्यू करने का मौका मिला, इसके साथ ही उन्हें साल 2016 के भारतीय अंडर-19 वर्ल्ड कप टीम का भी हिस्सा बनाया गया। मौके मिलने के बाद महिपाल ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा जिसके बाद उन्हें जल्द ही घरेलू टी-20 क्रिकेट एवं लिस्ट ए मुकाबलों का प्रतिनिधित्व करने का भी मौका मिला। घरेलू क्रिकेट में उनके शानदार प्रदर्शन को देखकर राजस्थान रॉयल्स ने साल 2018 में आईपीएल की नीलामी के दौरान उन्हें अपने फ्रेंचाइजी का हिस्सा बनाया।

महिपाल लोमरोर का क्रिकेट करियर और आंकड़े4d67353a bfaf 40df ab73 5c9f30a25ef4

अगर महिपाल लोमरोर के क्रिकेट करियर पर नजर डालें तो घरेलू क्रिकेट में उनका प्रदर्शन काफी बेहतरीन रहा है, उन्होंने 33 फर्स्ट क्लास मैच खेले जिसमें उन्होंने 39.06 की औसत से 4 शतक और 12 अर्धशतक के बदौलत 1953 रन बनाए. वहीं लिस्ट ए क्रिकेट में उन्होंने 28 मैचों में 39 की औसत से 10 अर्धशतक के बदौलत 975 रन बनाए।

इसी क्रम में अगर आईपीएल की बात करें तो वह अब तक 5 मैच खेल चुके हैं, जिसमें उन्होंने चार पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 25 की औसत से 75 रन बनाए। महिपाल के बल्लेबाजी को देखकर लगता है कि अगर उन्हें राजस्थान रॉयल के प्लेइंग इलेवन में लगातार मौके दिए जाए तो वह टीम के लिए संकटमोचक की भूमिका निभा सकते हैं।