Kuldeep Yadav-chahal

भारतीय क्रिकेट टीम के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) का समय अच्छा नहीं चल रहा है। पहले उन्हें आईपीएल टीम में प्लेइंग इलेवन में मौका मिलना मुश्किल था और अब टीम इंडिया से भी ड्रॉप हो चुके हैं। टी20 विश्व कप के लिए चुनी गई टीम में भी कुलदीप को मौका नहीं मिला। मगर इस बीच आकाश चोपड़ा से बात करते हुए कुलदीप ने KKR के टीम मैनेजमेंट को लेकर बड़ा खुलासा किया है।

नहीं होती खेलने की जानकारी

kuldeep yadav

कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) आईपीएल फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा हैं। कुलदीप केकेआर का हिस्सा तो हैं, लेकिन इस अनुभवी स्पिनर को प्लेइंग इलेवन में मौका नहीं दिया जा रहा है। हैरानी की बात है कि चाइनामैन स्पिनर ने आईपीएल 2020 में सिर्फ 5 मैच खेलने का मौका मिला था और आईपीएल 2021 के पहले हाफ में तो उन्हें एक भी मैच की प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया। अब आकाश चोपड़ा के साथ यू-ट्यूब चैनल पर बात करते हुए कुलदीप ने कहा,

“जब कोच ने आपके साथ पहले भी काम किया हो और आपके साथ लंबे समय से हों, तो वो आपको बेहतर जानते हैं। लेकिन जब कम्यूनिकेशन ही कमजोर होगा तो ये मुश्किल हो जाता है। कभी-कभी आपको पता भी नहीं होता कि आप खेलोगे या नहीं, या टीम आपसे क्या उम्मीद लगा कर बैठी है।”

लगता है कि आप खेल सकते हो मैच

Kuldeep Yadav ने आईपीएल में 45 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 30.90 के औसत व 8.27 की इकोनॉमी रेट से 40 विकेट चटकाए हैं। मगर पिछले दो सीजनों से उन्हें केकेआर ने पर्याप्त मौके नहीं दिए हैं।

“कभी आपको लगता है कि आपको टीम में होना चाहिए, आप टीम के लिए मैच जीत सकते हो, लेकिन आपको पता ही नहीं होता कि आप क्यों नहीं खेल रहे। मैनेजमेंट 2 महीने के प्लान के साथ आती है, तो ये मुश्किल हो जाता है।”

KKR को नहीं है मुझ पर भरोसा

Kuldeep Yadav

कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा Kuldeep Yadav को मानना है कि टीम उनपर भरोसा ही नहीं करती है। फ्रेंचाइजी को उनकी स्किल पर भरोसा नहीं है। चाइनामैन स्पिनर ने कहा,

“भारतीय टीम में जब आप नहीं खेलते तो मैनेजमेंट आपसे बात करता है, लेकिन ऐसा आईपीएल में नहीं होता। मुझे याद है कि मैंने आईपीएल से पहले फ्रेंचाइजी से बात की थी, लेकिन बीच में जो मैच हुए, किसी ने मुझे एक्सप्लेन नहीं किया। मैं थोड़ा शॉक्ड था। मुझे लगा कि उनको मुझ पर भरोसा नहीं है, उनको मेरी स्किल पर विश्वास नहीं है। ऐसा तब होता है जब टीम के पास बहुत सारे विकल्प होते हैं। केकेआर के पास अब बहुत सारे स्पिनर्स हैं।”