Kuldeep Yadav
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय क्रिकेट टीम के चाइनामैन स्पिन गेंदबाज Kuldeep Yadav को इंग्लैंड दौरे के लिए चुनी गई टेस्ट टीम से ड्रॉप कर दिया गया है। पिछले कुछ वक्त से कुलदीप यदि स्क्वाड का हिस्सा होते थे, तो वह अधिकतर बेंच पर ही बैठे नजर आते थे। इंग्लैंड के खिलाफ जब उन्हें गेंदबाजी का मौका मिला, तो उनपर काफी दबाव था, क्योंकि एक लंबे वक्त बाद वह टेस्ट में गेंदबाजी कर रहे थे।

मगर अब तो वह टीम से भी बाहर हो चुके हैं। जबकि जब kuldeep yadav ने भारतीय क्रिकेट में कदम रखा था, तो सीरीज दर सीरीज किए गए उनके प्रदर्शन को देखकर हर कोई हैरान था। उस वक्त ये सोचना नामुमकिन था कि इस तरह कुलदीप का करियर अर्श से फर्श पर पहुंच जाएगा।

सवाल उठता है कि पिछले 2 सालों में ऐसा क्या हुआ जिससे कुलदीप के करियर पर इतना फर्क पड़ा। तो आइए इस आर्टिकल में आपको उन 3 कारणों के बारे में बताते हैं, जिसके चलते अर्श से फर्श पर पहुंच गया स्पिनर का करियर।

 अर्श से फर्श पर पहुंच गया Kuldeep Yadav का करियर

1- आईपीएल टीम के प्लेइंग इलेवन से ड्रॉप होना

kuldeep yadav

भारत के पहले चाइनामैन स्पिन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) के अंतरराष्ट्रीय करियर का फिलहाल क्या हाल है, उसके बारें में सभी परिचित हैं। कहीं ना कहीं इसका एक कारण उनका आईपीएल प्रदर्शन भी है। दरअसल, पिछले सीजनों में कुलदीप को पर्याप्त मौके नहीं मिले, हालांकि वह खुद को आईपीएल में साबित भी नहीं कर पा रहे थे।

तब कोलकाता नाइट राइडर्स के टीम मैनेजमेंट ने कुलदीप को बेंच पर बैठाना शुरु कर दिया। पिछले सीजन की बात करें, तो उन्होंने आईपीएल 2020 में सिर्फ 5 मैच खिलाए गए थे, उनपर बहुत दबाव था और वह सिर्फ 1 ही विकेट निकाल सके।

इसके बाद आईपीएल 2021 में केकेआर लगातार मैच हारती रही, मगर उन्होंने कुलदीप को प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया। वह खेले गए सभी मैचों में बेंच पर ही रहे।

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse