KL Rahul 2

आईपीएल के जारी सीजन का 53वां मैच में चेन्नई सुपर किंग्स और किंग्स इलेवन पंजाब की टीमें आमने सामने थी, जिसमें चेन्नई सुपर किंग्स ने अपने बल्लेबाजों के शानदार प्रदर्शन के बदौलत किंग्स इलेवन पंजाब को 9 विकेट से हरा दिया। मैच के दौरान पहले बल्लेबाजी करते हुए किंग्स इलेवन पंजाब ने निर्धारित 20 ओवर में 153 रन बनाए, जिसके जवाब में उतरी चेन्नई सुपर किंग्स ने 18.5 ओवर में लक्ष्य को हासिल कर लिया।

पंजाब के खिलाड़ियों ने किया खराब प्रदर्शन

VRP4076

मैच के दौरान किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाड़ियों से खराब प्रदर्शन देखने को मिला, पहले तो बल्लेबाजों ने खराब प्रदर्शन किया फिर जब टीम के स्टार क्रिकेटर दीपक हुड्डा ने सम्मानजनक स्कोर तक पहुचा दिया, तो गेंदबाज उसको बचा नहीं पाए। पंजाब के लिए दीपक हुड्डा एक मात्र ऐसे खिलाड़ी थे, जिन्होंने शानदार प्रदर्शन किया, बाकी सभी खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करने में फेल हुए।

इस मैच में हार के साथ ही किंग्स इलेवन पंजाब के लिए इस साल का सफर खत्म हो गया। मैच में हार के बाद जब टीम के कप्तान केएल राहुल से इस सीजन के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कई बातों का जिक्र किया। वही केएल राहुल ने उम्मीद जताई की अगले साल वह अच्छा कमबैक करेंगे।

मैच के बारे में केएल राहुल ने दिया ऐसा बयान

VRP4135

मैच में हार के बाद जब केएल राहुल से मैच का हाल पूछा गया तो उन्होंने मैच के बारे में बोलते हुए कहा-

“हमने मैच में अच्छी बल्लेबाजी नहीं की, इस मैच में हमें 180-190 रन बनाने की उम्मीद थी, लेकिन दुर्भाग्य से हम दबाव में आ गए और बड़ा स्कोर बनाने में असफल हुए। हमने इस सीजन के पहले हाफ में कई मैच हारे जो की हमारे लिए काफी भारी पड़ा। पहले हाफ में हमारी बल्लेबाजी और गेंदबाजी एक साथ अच्छी नहीं हुई। हमने दूसरे हाफ में अच्छा प्रदर्शन करना शुरू किया, वास्तव में हमें इसपर गर्व है क्योंकि हम इसके बदौलत पॉइंट टेबल में टॉप 4 में भी पहुचें”
“दुर्भाग्य से आज के मैच में हम हार गए और हम इस सीजन से बाहर हो गए, लेकिन हमें टीम पर गर्व है। उम्मीद है की अगले साल हम फिर से मजबूत होकर लौटेंगे, हम इस साल को भूलना चाहते हैं। इस सीजन हमने कई गलतियाँ की उसको स्वीकार करने की जरूरत है, इससे सीखने की जरूरत है। हम इससे सीखकर अगले साल मजबूत होकर लौट सकते है”

इस सीजन किंग्स इलेवन पंजाब का प्रदर्शन

VRP4173

आईपीएल के इस सीजन किंग्स इलेवन पंजाब के प्रदर्शन पर नजर डाले तो टीम ने 14 मैच में 6 मैच जीते वहीं 8 मैच में टीम को हार झेलनी पड़ी। पंजाब ने शुरुवाती 7 मैच में सिर्फ 1 मैच जीते थे, और 6 मैच में टीम को हार मिली थी। दूसरे हाफ में पंजाब ने अच्छा कमबैक किया, और अगले 7 मैच में टीम ने 5 मैच में जीत हासिल की। इस साल उम्मीद जताई जा रही थी की पंजाब प्लेऑफ़ में पहुच सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।