sachin tendulkar lords

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के नाम के बिना क्रिकेट के अध्याय के सभी पन्ने अधूरे हैं। टीम इंडिया के इस पूर्व खिलाड़ी ने भारत में क्रिकेट खेल रहे खिलाड़ियों को पिछले 3 दशकों से प्रेरित किया है। इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक से लेकर 200 से ज्यादा विकेट हासिल करने वाले सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) एकलौते खिलाड़ी है। लिहाजा सचिन को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है, लेकिन कुछ साल पहले भारतीय क्रिकेट के एक दिग्गज खिलाड़ी ने सचिन की बल्लेबाजी पर सवाल उठाए थे।

Sachin Tendulkar सिर्फ शतक बनाने जानते थे

Kapil Dev cricket career

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में जमकर रन बनाए हैं। उनके दौर में टेस्ट और वनडे फॉर्मेट ही मुख्य तौर पर खेले जाते थे। टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाज के पास रन बनाने का खूब समय होता है। जिसके चलते कई बल्लेबाज एक पारी में तिहरा शतक भी जड़ देते हैं। पूर्व कप्तान कपिल देव ने इसी संदर्भ में सचिन की बल्लेबाजी पर तिपण्णी करते हुए कहा था कि,

“सचिन शतक बनाना जानते थे, लेकिन उस शतक को दोहरे शतक और तिहरे शतक में बदलना उन्हें नहीं आता था.’ उनके जैसे बल्लेबाज को अपने करियर में कम से कम तीन तिहरे शतक जड़ने चाहिए थे. सचिन को 10 दोहरे शतक लगाने चाहिए थे, क्योंकि सचिन तेंदुलकर जैसा बल्लेबाज तेंज गेंदबाजों और स्पिनरों को हर ओवर में बाउंड्री के बाहर मार सकता है.”

टेस्ट में Sachin Tendulkar का बेस्ट स्कोर 248

lords

सचिन (Sachin Tendulkar) ने अपने इंटरनेशनल करियर में 100 शतक जड़े थे। 463 वनडे मैचों में उन्होंने 49 शतक जमाए हैं। वहीं खेल के सबसे लंबे फॉर्मैट में उनके नाम 51 शतक है। सचिन ने अपने टेस्ट करियर में 6 दोहरे शतक लगाए हैं। लेकिन उन्होंने कभी टेस्ट पारी में 300 रनों का आंकड़ा पर नहीं किया। टेस्ट में सचिन (Sachin Tendulkar) सर्वाधिक निजी स्कोर 248 रन है। इसको लेकर भारत को पहला वर्ल्डकप जिताने वाले कपिल देव ने सचिन की बल्लेबाजी पर सवाल उठाए थे।

शतक के बाद धीरे खेलते थे सचिन – Kapil Dev

sachin

हाल ही में यूट्यूब के एक इंटरव्यू के दौरान कपिल देव (Kapil Dev) ने कहा कि उन्होंने सचिन तेंदुलकर जैसा टैलेंट किसी खिलाड़ी में नहीं देखा। लेकिन वे निर्दयी होकर बल्लेबाजी नहीं करते थे।

“सचिन शतक बनाने के बाद सिंगल लेना शुरू कर देते थे।  जबकि उन्हें शतक के बाद और भी ज्यादा आक्रामक बल्लेबाजी करनी चाहिए थी।”

इसके साथ ही आपको बता दें कि, अब तक सिर्फ 2 भारतीय बल्लेबाजों ने टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक बनाया है। जिसमें वीरेंद्र सहवाग ने 2 बार 300 का आंकड़ा पार किया है और करून नायर ने एक बार ये कारनामा किया है।