Kane Williamson

सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन (Kane Williamson) की फॉर्म इस सीजन में चिंता का विषय बनी हुई है. आईपीएल का 61वां मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद और कोलकाता नाइट राइडर्स (SRH vs KKR) के बीच खेला गया. इस मुकाबले में हैदराबाद को कोलकाता ने 54 रनों से हरा दिया. जिसमें एक बार फिर केन विलियमसन के बल्ले से खराब पारी देखनी को मिली और वह अपने खराब शॉट सेलेक्शन की वजह से 9 रनों के निजी स्कोर पर आउट हो गए.

खराब शॉट सेलेक्शन की वजह से Kane Williamson हुए आउट

कप्तान केन विलियमसन (Kane Williamson) आईपीएल 2022 में अपने बल्ले से कोई गहरी छाप नहीं छोड़ पाए हैं. वह इस साल खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं. ऐसा ही कुछ नजारा केकेआर के साथ खेले गए मुकाबले में देखने को मिला. केन विलियमसन प्रोफेशनल क्रिकेटर माने जाते हैं. क्योंकि, वह कभी भी बिना सोचे कोई भी शॉट्स नहीं खेलते हैं. उनकी यही खासियत ही और खिलाड़ियों से उन्हें अलग बनाती है. लेकिन, इस साल आईपीएल में वह जल्द बाजी करते हुए अपना विकेट गंवा रहे हैं.

मैच के पावरप्ले का आखिरी ओवर रसेल लेकर आए थे. केन विलियमसन उनके ओवर में बड़े प्रहार करना चाहते थे. लेकिन वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सके और वह ओवर की दूसरी गेंद पर स्कूप शॉट मारने के प्रयास में क्लीन बोल्ड हो गए. केन विलियमसन आंद्रे रसेल के ओवर में पूरी तरह से बेबस दिखाई दिए.

उन्होंने जिस तरह का शॉट खेला उसे देखने के बाद लगा कि केन विलियमसन छोटे बच्चे हैं क्या? जो रसेल की आसान सी गेंद पर 9 रनों पर अपना विकेट गंवा दिया. अगर वह थोड़ा और संयम बनाए रखते तो, मैच का परिणाम कुछ भी हो सकता था.  54 रनों से मिली हार के फासले को और भी कम किया जा सकता था. यह सब जब संभव था. अगर कप्तान के रूप में बड़ी पारी खेलने में सफल हो जाते.

केन विलियमसन की खराब फॉर्म जारी

IPL 2022 Kane Williamson reaches 2000 runs in IPL
IPL 2022 Kane Williamson

सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन (Kane Williamson) से फ्रेंचाइजी से बड़ी उम्मीदे थीं. लेकिन वह उनकी उम्मीदो पर खरा नहीं उतर पा रहे हैं. वही अगर विलियमसन के इस साल प्रदर्शन पर नजर डालें तो उनके आंकड़े आपको थोड़ा विचलित जरूर कर सकते है.

केन विलियमसन (Kane Williamson) ने अभी तक 12 मुकाबले खेले है. जिसमें उन्होंने 18.91 की खराब औसत से सिर्फ 224 रन बनाए है. इन आकड़ों के मुताबित विलियमसन अपनी टीम को प्लेऑफ में नहीं पहुंचा सकते हैं. अगर दोनों मैचों में भी हैदराबाद जीत दर्ज करती है तो, वह सिर्फ 14 अंकों तक ही पहुंच पाएगी. जिसके बाद उसे प्लेऑफ में पहुंचे के लिए दूसरी टीमों की हार का इंतजार करना पड़ेगा.