मनीष

आईपीएल 11 में सनराइजर्स हैदराबाद ने अपने शानदार प्रदर्शन से अभी तक सभी को प्रभावित किया है. टीम की बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों अव्वल दर्जे की रही है. कप्तान केन विलियम्सन ने तो फैन्स का दिल जीत लिया है. यही सब वे कारण है जिससे यह टीम फिलहाल अंकतालिका में शीर्ष के इर्द-गिर्द ही रहती है. आईपीएल 11 के खिताब का प्रबल दावेदार भी इसी टीम को माना जाने लगा है. 12 मैचों में 9 जीत के साथ फिलहाल यह टीम नंबर वन पर बनी हुई है हालांकि चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ रविवार को खेले गए पहले मुकाबले में इस टीम को आठ विकेट से शिकस्त झेलनी पड़ी.

दरअसल, रविवार को पुणे के एमसीए स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ने 20 ओवर में 4 विकेट गंवा कर 179 रन बनाए और चेन्नई सुपर किंग्स को जीत के लिए 180 रनों का टारगेट दिया. जवाब में चेन्नई सुपर किंग्स ने अंबति रायडू की धमाकेदार शतकीय पारी (62 गेंदों में 100 रन) की बदौलत 19 ओवर में ही 180 रन बनाते हुए लक्ष्य हासिल कर लिया और चेन्नई को हैदराबाद पर जीत दिला दी. अंबति रायडू को ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया.

275648.4हालांकि इस मैच में भी हैदराबाद की तरफ से कप्तान विलियम्सन और शिखर धवन के बीच शतकीय साझेदारी हुई. दोनों के बीच दूसरे विकेट के लिए 123 रनों की साझेदारी हुई. इस साझेदारी को ड्वेन ब्रावो ने तोड़ा जब उन्‍होंने धवन को आउट किया. धवन ने 49 गेंदों में 79 रन की पारी खेली. इसमें उन्‍होंने 10 चौके और तीन छक्‍के लगाए.

हैदराबाद के नज़रिए से एक बात भुला दें तो यह टूर्नामेंट बेहतरीन रहा है. हालांकि इसे भुलाना इतना आसान नहीं होने वाला. दरअसल, हम बात कर रहे हैं टीम के सबसे महंगे खिलाड़ी मनीष पांडे की जिन्हें हैदाराबद ने नीलामी के दौरान 11 करोड़ रुपए देकर टीम में शामिल किया था. लेकिन पांडे जी ने अभी तक सबको निराश किया है. अभी तक मनीष पांडेय ने इस सीजन 12 मैचों में 21.00 की औसत से मात्र 189 रन बनाए हैं.

SA i KAT 30177हालांकि इतने ख़राब प्रदर्शन के बावजूद टीम के कप्तान केन विलियम्सन मनीष पांडे का बचाव कर रहे हैं. उन्होंने रविवार को टीम की हार के बाद कहा कि

“इसमें कोई शक नहीं है कि उसके अन्दर प्रतिभा की कोई कमी है. हाँ, ये बात और है कि अभी तक मनीष अपने रंग में नहीं दिख रहा है. वह जिस क्रम परआता है वहां बल्लेबाजी करना कतई आसान नहीं होता. हमने अच्छी साझेदारियां की हैं जिसके बाद आने वाले बल्लेबाज का काम सिर्फ तेज़ रन बटोरना होता है जिसके प्रयास में बल्लेबाज कभी कधार फेल हो जाता है.”

उन्होंने आगे कहा कि, मनीष हमेशा टीम के लिए खेलते हैं. और हमें उम्मीद है कि आने वाले मैचों में हम इस बल्लेबाज से शानदार परफार्मेंस देखेंगे. इस खेल की यही तो ख़ासियत है. इसमें आपका अच्छा और बुरा दोनों दिन होता है. हालांकि टीम के सदस्य के रूप में आपको हमेशा सकारात्मक पहलुओं के विषय में सोचना चाहिए.

Anurag Singh

लिखने, पढ़ने, सिखने का कीड़ा. Journalist, Writer, Blogger,

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *