जस्टिन लैंगर

भारत से टेस्ट सीरीज खत्म होने के बाद ऑस्ट्रेलिया के कोच जस्टिन लैंगर हाल में चर्चा का विषय बन गए हैं. इसके पीछे टीम के सीरीज हारने का बड़ा कारण रहा है. हाल ही में ब्रिस्बेन टेस्ट में मिली करारी शिकस्त के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम 2-1 से सीरीज हार गई थी, और भारतीय टीम ऐतिहासिक जीत के साथ भारत वापस लौट आई थी.

जस्टिन लैंगर के कोच तकनीकि से खुश नहीं ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

जस्टिन लैंगर

हालांकि भारत से टेस्ट सीरीज हारने के बाद कोच जस्टिन लैंगर से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है, जिस पर उन्होंने अपनी सफाई पेश की है. कई मीडिया खबरों की माने तो कंगारू खिलाड़ी लैंगर की कोच शैली से बिल्कुल भी खुश नहीं हैं. यहां तक कि प्लेयर्स को उनकी कोचिंग तकनीक भी बिल्कुल भी रास नहीं आ रही है.

भारतीय टीम के खिलाफ अपने ही घर में 2-1 से हारने के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम में तितर-बितर की खबरें तेज होने लगी हैं. इसके साथ ही ऐसी अंदर से ऐसी बातें भी निकलकर सामने आ रही हैं कि, खिलाड़ियों को कोच का बदला व्यवहार भी काफी ज्यादा परेशान कर रहा है, और ये सब गाबा में खेले गए टेस्ट के बाद से ही देखने को मिल रहा है.

जस्टिन लैंगर ने अपने उपर लग रहे आरोपों का किया खंडन

जस्टिन लैंगर

मॉर्निंग हेराल्ड की ओर से जारी की गई रिपोर्ट में बताया गया था, कि जब से ऑस्ट्रेलिया की टीम हारी थी उस दिन जस्टिन लैंगर ड्रेसिंग रूम में खिलाड़ियों पर काफी ज्यादा गुस्सा हुए थे. टीम में उठ रहे इन विवादों पर पहली बार उन्होंने अपनी सफाई दी है.

फिलहाल इन सभी आरोपों पर बात करते हुए खिलाड़ियों से उनके तनाव की खबरों को जस्टिन लैंगर ने खंडन किया है. इस बारे में कोच ने बात करते हुए कहा है कि, टीम के खिलाड़ियों के साथ उनके रिश्ते में आ रही तनाव की खबर झूठी है.

जस्टिन लैंगर ने गेंदबाजों को लेकर कही ऐसी बात

जस्टिन लैंगर

उन्होंने आगे बातचीत करते हुए कहा कि,

‘इस तरह के लग रहे आरोपों में एक भी प्रतिशत सच्चाई नहीं है. टीम का नेतृत्व करना कोई पॉपुलरिटी हासिल करने की प्रतियोगिता नहीं है. यदि खिलाड़ियों को अपनी हर तकलीफ से निपटने के लिए किसी की जरूरत है तो फिर मैं अपना काम नहीं कर पाउंगा’. 

जस्टिन लैंगर ने आगे बात करते हुए कहा कि,

‘यह बातें बिल्कुल भी सही नहीं है, क्योंकि मैंने खुद कभी भी किसी भी गेंदबाज से आंकड़ों को लेकर कोई बात नहीं की है. मैं कभी गेंदबाजों की भी मीटिंग में नहीं जाता. जबकि इसी काम को करने के लिए टीम में गेंदबाजी कोच होता है. लेकिन मैं ऐसा नहीं करता. मैंने कभी भी किसी भी गेंदबाज से ऐसी किसी भी चीज को लेकर बात ही नहीं की है’.