भारतीय खिलाड़ी
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

क्रिकेट के दुनिया में ऐसे कई सितारे हैं. जिन्होंने जब अपनी क्रिकेट शुरू की तो उन्हें देखकर भविष्य का सुपरस्टार बता दिया गया था. लेकिन जैसे-जैसे उनका करियर आगे बढ़ा तो उन्हें सिर्फ असफलता ही मिली. जिससे वो अपनी प्रतिभा के साथ बिलकुल भी न्याय नहीं कर पायें.

कुछ खिलाड़ियों ने जब अंडर-19 स्तर पर या भारतीय टीम के लिए खेला तो ऐसा नजर आया है की इस खिलाड़ी में सभी रिकॉर्ड तोड़ने की क्षमता नजर आती है. लेकिन उनका करियर उतना प्रभावशाली नहीं रहा. जिसके कारण वो कुछ समय के बाद टीम में नजर भी नहीं आ पायें.

आज हम आपको ऐसे ही 3 भारतीय खिलाड़ी के बारें में बताएँगे. जिनका करियर एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी के तौर पर शुरू हुआ. लेकिन अंत एक निराशाजनक ही रहा. ये खिलाड़ी अब सोशल मीडिया पर और कमेंट्री पर ज्यादा समय बिताते हुए नजर आते हैं. इन खिलाड़ियों की तुलना दिग्गजों से होती थी.

1. इरफ़ान पठान

तेज गेंदबाजी आलराउंडर इरफ़ान पठान ने जब अपना करियर शुरू किया तो स्विंग के कला से सभी को बहुत ज्यादा प्रभावित कर दिया. बाद में गेंद के साथ वो बल्ले से भी अहम योगदान देते हुए नजर आने लगे. जिसके कारण उनकी तुलना कपिल देव की होने लगी थी.

इरफ़ान पठान ने भारतीय टीम के लिए 29 टेस्ट मैच खेले. जिसमें 1105 रन बनाये और 100 विकेट भी हासिल किये. 120 एकदिवसीय मैच में उन्होंने 1544 रन बनाये थे. जबकि गेंद के साथ उन्होंने 173 विकेट अपने नाम किये हैं. इरफ़ान ने 24 टी20 मैच भी भारत के लिए खेले हैं.

पठान ने इस फ़ॉर्मेट में गेंद से 28 विकेट हासिल किये और बल्ले से 172 रन बनाये हैं. लेकिन 2012 में जब वो मात्र 28 वर्ष के ही थे. उस समय टीम से बाहर हो गये और फिर वापसी नहीं कर पायें. उनके प्रतिभा को देखकर ये आकड़े बहुत कम नजर आते हैं. जिसके कारण ये कहना गलत नहीं होगा की वो प्रतिभा के साथ न्याय नहीं कर पायें.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse