untitled 2 1599586025

इंडियन प्रीमियर लीग-2020 में एक के बाद एक लगातार 5 मैचों में हार. ऐसा लगा कि किंग्स इलेवन पंजाब के लिए आईपीएल में उम्मीदें खत्म हो चुकी है. लेकिन कोच अनिल कुंबले और कप्तान केएल राहुल की जोड़ी ने ऐसा धमाल मचाया कि अब ये टीम एक बार फिर से प्लेऑफ की रेस में शामिल हो गई है. शनिवार को हुए मुकाबलें में पंजाब की जीत के बाद कुंबले और राहुल की जोड़ी ने उनके फैंस को दीवाना बना दिया.

कैसे पलटी बाजी?

RON 1142

लगातार 5 मैचों में हार के बाद पंजाब के हौसले पस्त ही हो गए थे. लेकिन जैसे ही उनका मुकाबला विराट कोहली की टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर से हुआ उसके बाद से पासा पलट गया. शारजाह के मैदान पर पंजाब ने आरसीबी की टीम को 8 विकेट से करारी शिकस्त दी थी.

इसके बाद तो किंग्स इलेवन पंजाब की बाजी पलट गई, पंजाब की टीम ने मुंबई इंडियंस को सुपर ओवर में हराया. फिर दिल्ली कैपिटल्स की टीम को 5 विकेट से धोया और जीत दर्ज की. उसके साथ ही शनिवार को हुए दूसरे मुकाबलें में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने सनराइजर्स हैदराबाद की टीम को 12 रनों से हराया.

इस मुकाबलें में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम एक अच्छी गेंदबाजी के साथ-साथ अच्छी फील्डिंग भी की. इस मुकाबलें में पंजाब की टीम के तेज़ गेंदबाज अर्शदीप सिंह ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 3 विकेट झटके और अपनी टीम को इस मुकाबलें को जिताने में अहम भूमिका निभाई.

ये जोड़ी तो हिट है

886932 kl rahul and anil kumble

किंग्स इलेवन पंजाब के कोच अनिल कुंबले एक ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो कभी भी हिम्मत नहीं हारे हैं. आपको याद होगा साल 2002 में वेस्टइंडीज के खिलाफ एंटीना टेस्ट में उन्होंने जबड़ा टूटने के बाद भी पट्टी बांधकर गेंदबाजी की थी.

लिहाजा पांच मैचों में हार के बाद भी कुंबले ने अपनी टीम का हौसला नहीं टूटने नहीं दिया. टीम बुलंद हौसले के साथ डटी रही और नतीजा आपके सामने है. कप्तान केएल राहुल भी शानदार कप्तानी कर रहे हैं. लगातार हार के बाद भी उन्होंने टीम में ज्यादा बदलाव नहीं किए.

खिलाड़ियों पर भरोसा जताया और अब उनकी टीम को उनकी बात का फायदा मिल रहा है. एक समय में इंडियन प्रीमियर लीग के इस सीजन में सबसे ख़राब करने वाली किंग्स इलेवन पंजाब की टीम आज एक अच्छे रूप में देखी जा सकती हैं.

ये रहा इस टीम का लक फैक्टर

923790 rahul kxip gayle

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम में क्रिस गेल प्लेइंग इलेवन में पहली पसंद नहीं थे. लेकिन जैसे ही वो खेलने के लिए मैदान एक बार उतरे उसके बाद तो किंग्स इलेवन पंजाब की टीम की किस्मत ही बदल गई. उनके आने के बाद भी पंजाब की टीम नहीं हारी है. ये बात और है कि गेल के बल्ले से पुराने अंदाज में रन नहीं निकल रहे हैं. लेकिन उनके मैदान पर रहने से विपक्षी टीम के गेंदबाज खौफ में रहने हैं.