IPL 2022

IPL 2022 के 15 वें सीजन ने मुंबई और चेन्नई की टीमों को एक जैसा ही दर्द मिला हैं. जिसे ये दोनों टीमें कभी भुला नहीं पाएगी. मुंबई की टीम को आईपीएल की सबसे सफल टीम माना जाता है. क्योंकि, उसने 5 बार आईपीएल का खिताब अपने नाम किया है. वहीं दूसरे नंबर पर चेन्नई का नाम आता हैं. जिसने 4 बार आईपीएल का टाइटल्स जीता है. लेकिन, इस सीजन में ये दोनों ही टीमें सबसे फिसड्डी साबित हुई हैं. मुंबई की टीम एक मैच हारते ही टूर्नामेंट की रेस से बाहर हो जाएगी. वही चेन्नई के हालत भी ठीक नहीं है.

IPL 2022: रोहित शर्मा की कप्तानी का नहीं चला जादू

IPL 2022
IPL 2022: Rohit Sharma

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को आईपीएल का सबसे सफल कप्तान माना जाता है. लेकिन इस सीजन वो अपनी कप्तानी से कोई खास चमक नही बिखेर पाए हैं. वहीं रोहित शर्मा के प्रदर्शन की बात करें तो, उन्होंने 6 पारियों में महज 114 रन बानाए है. इस खराब प्रदर्शन से जीत पाना संभव नहीं है. रोहित शर्मा को बड़ी पारी खेलनी होगी. तभी टीम की नैय्या पार लग सकेगी. ईशान किशन भी कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए. हालांकि सूर्यकुमार यादव, डेवाल्ड ब्रेविस और तिलक वर्मा ने कुछ अच्छी पारिया खेली हैं.

वहीं मुंबई इंडियंस की गेंदबाजी सबसे कमजोर कड़ी के रूप में उबर कर सामने आई है. जिसने अब तक सबसे ज्यादा निराश किया है. तेज गेंदबाज बुमराह के अलावा कोई ओर गेंदबाज अटैकिंग बॉलिंग नहीं कर पाया. टाइमल मिल्स, जयदेव जैसे गेंदबाजों को भी अपनी विकेट लेने होगे. टाइमल मिल्स बॉलिंग मे काफी महंगे साबित हो रहे है. उन्होंने लखनऊ के खिलाफ 3 ओवरों में 54 रन लुटा डाले. जो टीम के लिए एक चिंता का विषय है. टीम ने 6 मैच खेले हैं और सारे ही मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा हैं.

IPL 2022: चेन्नई को नई भाया नया कप्तान

csk jadeja

चेन्नई सुपर किंग्स इस सीजन में नए कप्तान और नई सोच के साथ मैदान पर उतरी थी. लेकिन, रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) की अगुवाई में सीएसके का प्रदर्शन बेहद साधारण देखने को मिला. अभी कुल 6 मैच खेले है 5 हारे और 1 मैच में ही जीत मिल सकी. चेन्नई के मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज रन नहीं बना रहे है.

धोनी और जडेजा एक फिनिशर की भूमिका निभा सकते है. पर, उनका बल्ला शांत है. रविंद्र जडेजा को धोनी के साथ चिंतन करना होगा कि उनसे कहां चूक हो रही है. धोनी की कप्तानी में चेन्नई का यह हाल देखने को नहीं मिला था.अब देखना यह होगा कि क्या जडेजा दोबारो टीम को पटरी पर ला सकता है?