Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

विश्व इस समय कोरोना वायरस से जूझ रहा है. जिसके कारण ही खेल जगत प्रभावित नजर आ रहा है. पिछले कुछ महीनो से कोई मैच नहीं खेला गया है. जिसके कारण क्रिकेट से सबसे बड़ी लीग आईपीएल पर भी बड़ा संकट मंडरा रहा है. उसके आयोजन को लेकर ही बहुत सवाल है.

हाल में ही बीसीसीआई ने अपने दिए गये बयानों में साफ किया है की वो आईपीएल 2020 को आयोजित करने के लिए पूरा प्रयास कर रहे हैं. हालाँकि इसी के साथ रिपोर्ट्स आई थी की इस बार टी20 लीग को विदेश में भी आयोजित किया जा सकता है. जिसका लिए यूएई एक विकल्प हो सकता है.

आज हम आपको उन 4 आईपीएल फ्रेंचाइजी के बारें में बताएँगे. जिन्होंने यूएई में आईपीएल के होने से समस्या हो सकती है. इन टीमों ने अपनी घरेलू परिस्थितियों के अनुसार ही नीलामी में अपने साथ खिलाड़ियों को जोड़ा था. जो अब उनके लिए बिना महत्व का हो गया है.

1. चेन्नई सुपर किंग्स

महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने इस बार के आईपीएल नीलामी में चेन्नई के पिच को ध्यान में रखते हुए 7 स्पिनरों का टीम का हिस्सा बनाया है. जिनका प्रयोग चेन्नई के मैदान पर किया जा सकता है. वहां पर एक मैच में आलराउंडर सहित 4 स्पिनर खेल सकते हैं.

चेन्नई सुपर किंग्स की टीम जब यूएई के मैदान पर उतरेगी तो वो अपने प्लेइंग इलेवन में 2 से ज्यादा स्पिनरों को शायद ही मौका दें. ऐसे समय में नीलामी में उनके द्वारा खर्च किया गया पैसा बेकार चला जाता है. जिसका कारण है की नीलामी से पहले उनके पास 5 स्पिनर थे.

सुपर किंग्स की टीम को अब प्लेइंग इलेवन चुनते समय संतुलन बनाना बहुत मुश्किल होगा. अच्छे तेज गेंदबाज की बात करें तो भी उनके लिए बड़ी समस्या है क्योंकि तेज गेंदबाजी में अधिकतर अच्छे विकल्प उनके पास विदेशी खिलाड़ियों के ही नजर आते हैं.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse