किसी भी टीम को अगर सफल बनाने की बात करें तो उसमें कप्तान की अहम भूमिका रहती है. कप्तान टीम की जीत और अच्छे प्रदर्शन के लिए कई निर्णय लेने पड़ते हैं. आईपीएल के सबसे सफल टीम की बात करें तो सबसे ऊपर महेंद्र सिंह धोनी की टीम चेन्नई सुपर किंग्स है. महेंद्र सिंह धोनी ने आईपीएल के प्रत्येक सीजन में चेन्नई सुपरकिंग्स को प्लेऑफ़ में पहुँचाया है.

महेंद्र सिंह धोनी ने कई बार ऐसे निर्णय लेकर टीम को जीत दिलाया है. टीम के लिए कप्तान का निर्णय सबसे अहम होता है कई बार निर्णय लेने से टीम को सफलता मिल जाती है तो कई असफलता हाथ लगती है. अब तक इस सीजन में देखा जाये तो धोनी ने जिस हिम्मत के साथ कुछ योजनाओं से अपनी टीम को प्लेऑफ़ तक पहुँचाया है वैसा हिम्मत किसी भी कप्तान ने नहीं दिखलाई है.

आइये आपको धोनी के इन चार योजनाओं के बारे में बताते हैं जिससे उनको इस सीजन आईपीएल में कामयाबी मिली.

# 1. अनुभवी खिलाड़ियों पर भरोसा दिखाना 

आईपीएल में अक्सर देखा जाता है कि अगर कोई भी खिलाड़ी एक मैच में फेल दीखता है, तो कप्तान नये खिलाड़ियों को मौके देने लागतें हैं. वहीं महेंद्र सिंह इसके बिल्कुल विपरीत रणनीति के साथ चलतें हैं. धोनी अपने अनुभवी खिलाड़ी पर काफी विश्वास करतें हैं. चेन्नई सुपरकिंग्स में ऐसे खिलाड़ी मौजूद हैं जो काफी ज्यादा अनुभव रखते हैं.

जिसमें फाफ डू प्लेसिस, हरभजन सिंह, इमरान ताहिर जैसे अनुभव वाले खिलाड़ी हैं जो अपने अनुभव से मैच का रुख बदलने की काबिलियत रखते हैं. मतलब साफ है धोनी अपनी टीम में ज्यादा बदलाव में विश्वास नहीं रखते. वो खिलाड़ियों को अपनी काबिलियत साबित करने का पूरा मौका देते हैं.

# 2. पावरप्ले में धीमी बल्लेबाजी 

चेन्नई सुपर किंग्स हमेशा से ही इस सीजन में शुरू के छः ओवर में धीमी गति से रन बनाते दिखी है, जबकि अन्य टीम पावरप्ले में तेज गति से रन बनाते हैं. इस सीजन चेन्नई का औसत पावरप्ले स्कोर 46/1 रहा. चेन्नई सुपर किंग्स पावरप्ले के बाद रन की गति को बढ़ाती दिखी है. एमएस धोनी अपने टीम में विस्फोटक खिलाड़ी से ज्यादा पारी बनाकर खेलने वाले खिलाड़ी को टीम में रखते हैं.

सुरेश रैना, डेविड हसी, मुरली विजय, अंबाती रायडू इसकी सबसे बड़ी मिसाल हैं. हालांकि आखिरी 10 ओवरों में चेन्नई का रन रेट 10.6 है जो कि रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बाद सबसे अच्छा है. मतलब धोनी का सीधा-सादा फॉर्मूला है पहले गेंद पर नजर जमाओ और फिर आखिरी ओवर्स में तेज गति से रन बनाओ.

# 3.अंतिम ओवर्स तक खेल को ले जाना 

बहुत सी आईपीएल की टीम को ये करते देखा गया है कि लक्ष्य का पीछा करने के लिए तेज गति से रन बनाते हैं. लेकिन महेंद्र सिंह धोनी हमेशा मैच को अंतिम ओवर तक लेकर गए हैं, आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स आखिरी ओवर में की टीम ने 28 बार 20वें ओवर में मैच जीता है जो आईपीएल में कोई और नहीं कर सका है. चेन्नई सुपर किंग्स ने आखिरी गेंद पर 6 मैच जीते हैं. चेन्नई सुपरकिंग्स ने आखिरी ओवर में कुल 57 फीसदी मैच जीते हैं.

# 4. पावरप्ले में स्पिनर से गेंदबाजी 

महेंद्र सिंह धोनी को पिच की अच्छी जानकारी रहती है जिसके कारण वो पावरप्ले में भी स्पिनर का इस्तेमाल करते हैं. यही वजह है कि धोनी ने इस सीजन में कई मौकों पर हरभजन को प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा है, जबकि हरभजन सिंह काफी अच्छी फॉर्म में हैं.

आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे जल्दी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुंचा सके।