फिटनेस टेस्ट-1

भारत-इंग्लैंड के बीच दूसरा टेस्ट मुकाबला शनिवार से शुरू हो रहा है, और उससे पहले ही टीम इंडिया के लिए बुरी खबर सामने आई है. दरअसल 6 भारतीय खिलाड़ियों के फिटनेस टेस्ट की अपडेट सामने आई है. दरअसल  नेशनल क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) में इस हफ्ते हुई दो किलोमीटर रनिंग के फिटनेस टेस्ट में 6 खिलाड़ी पूरी तरह से फेल हो गए हैं.

ये 6 खिलाड़ी फिटनेस टेस्ट से हुए बाहर

फिटनेस टेस्ट

दरअसल इस बार यो-यो के साथ ही 2 किमी रनिंग का भी टेस्ट रखा गया है. ऐसे में जो खिलाड़ी फेल हो गए उन्हें  2 किमी की दूरी 8 मिनट 30 सेकंड में पूरी करनी थी, तो वहीं तेज गेंदबाजों को ये दूरी 8 मिनट 15 सेकंड में पूरी कर लेनी थी. हालांकि 6 क्रिकेटर तय समय के अनुसार खुद को साबित नहीं कर पाए.

फिटनेस में फेल हुए खिलाड़ियों में विकेटकीपर और बल्लेबाज संजू सैमसन, ईशान किशन, नीतीश राणा, लेग स्पिनर राहुल तेवतिया के के साथ ही तेज गेंदबाज सिद्धार्थ कौल और जयदेव उनादकट का नाम शामिल है. हाल ही में एक रिपोर्ट के जरिए ये जानकारी सामने आई है.

फेल खिलाड़ियों को ऐसे मिलेगा साबित करने का मौका

फिटनेस टेस्ट-IND

दरअसल जारी हुई अंग्रेजी रिपोर्ट की माने तो, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने खिलाड़ियों की फिटनेस को टेस्ट करने के लिए एनसीए में नए टेस्ट की शुरुआत की है, जिसमें ये 6 खिलाड़ी फेल हो गए हैं. सूत्रों के हवाले से आ रही जानकारी की माने तो, टेस्ट के रूल्स बदलने की वजह से खिलाड़ियों को कुछ समय बाद फिर से फिटनेस में खुद को साबित करने का मौका मिलेगा.

इसके साथ ही बोर्ड से संबंधित सूत्रों ने ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ को जानकारी दी है कि, यदि दूसरी बार भी ये  खिलाड़ी इसी तरह से फिटनेस टेस्ट में फेल हो जाते हैं, तो इन्हें इंग्लैंड के विरूद्ध होने वाली पांच टी-20 मैच और 3 वनडे सीरीज में चुना जाना काफी मुश्किल होगा.

पहले भी फिटनेस टेस्ट न पास करने की वजह से खिलाड़ियों को होना पड़ा बाहर

फिटनेस टेस्ट

दरअसल ऐसा इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि साल 2018 में भी इस का वाक्या देखा गया था. उस दौरान यो-यो टेस्ट में सैमसन, तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और अंबाती रायडू के फिटनेस टेस्ट में फेल होने के चलते उन्हें इंग्लैंड दौरे पर सीमित ओवरों की सीरीज से बाहर कर दिया गया था.

सूत्रों की ओर से यह भी बताया गया है कि, इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवर की सीरीज के बाद इस साल भारत में टी-20 वर्ल्ड कप भी होना है. इसी के आधार पर 20 से ज्यादा संभावित खिलाड़ियों का एनसीए में फिटनेस टेस्ट लिया गया था. जिसमें 6 खिलाड़ी पास नहीं हो पाए. जबकि कुछ खिलाड़ियों ने बड़ी मुश्किल से रेस टेस्ट को पास किया है.