भारतीय टीम

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में भारतीय टीम को अब तक 1 ही जीत हाथ लगी है. इस श्रृंखला में 1 मुकाबला ऑस्ट्रेलिया ने भी जीता है. जबकि 1 ड्रॉ रहा है. इसके बाद आखिरी मुकाबला ब्रिस्बेन में खेला जा रहा है. ऐसे में भारत के लिए इस सीरीज को जीतने का फायदा सीधा आईसीसी की विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की लिस्ट में भी होगा. जिसमें पहले नंबर पर कंगारूओं की टीम और दूसरे नंबर पर भारतीय टीम बरकरार है.

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप की लिस्ट में इंग्लैंड ने मारी बाजी

भारतीय टीम-इंग्लैंड

भारत-ऑस्ट्रेलिया के अलावा इस समय इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच भी टेस्ट सीरीज खेली जा रही है. जिसमें पहला टेस्ट इंग्लैंड टीम ने जीता, और इसी जीत के साथ ही इंग्लैंड को इसका लाभ सीधा आईसीसी विश्व चैंपियनशिप की लिस्ट में हुआ है. हालांकि इंग्लैंड टीम का फाइनल में जगह बना पाना काफी मुश्किल है, क्योंकि प्रतिशत के आधार पर भारतीय टीम और ऑस्ट्रेलिया इंग्लैंड काफी हद तक आगे हैं.

इसके साथ ही तीसरे नंबर पर प्वाइंट टेबल की लिस्ट में 0.70% के साथ न्यूजीलैंड की टीम बनी हुई है. लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ अभी भारतीय टीम अपने घरेलू सीरीज में भिड़ेगी. ऐसे में अगर टीम इंडिया इंग्लैंड से सीरीज हार जाती है, तो इसका पूरा फायदा न्यूजीलैंड को होगा. क्योंकि तीसरे नंबर से न्यूजीलैंड दूसरे नंबर पर आ जाएगी, और फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगी.

मुश्किल में पड़ सकती है भारतीय टीम

भारतीय टीम

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेला जा रहा अंतिम टेस्ट मैच यदि भारतीय टीम हार जाती है, या फिर मुकाबला ड्रॉ हो जाता है तो, कहीं न कहीं भारतीय टीम की दिक्कतें बढ़ सकती हैं. क्योंकि चौथा टेस्ट मुकाबला हारते ही भारतीय टीम दूसरे नंबर से खिसक कर तीसरे स्थान पर पहुंच जाएगी.

फिलहाल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज खत्म होते ही भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू पिच पर 4 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलेगी. ऐसे में यदि भारतीय टीम इस सीरीज पर जीत हासिल करने में सफल होती है तो आईसीसी की विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में टीम इंडिया के जगह पक्की होने की उम्मीद बरकरार रहेगी.

इस नए नियम के मुताबिक विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप में जगह बना रही टीमें

भारतीय टीम

कोरोना महामारी के कारण साल 2020 में कई टीमों की टेस्ट सीरीज रद्द कर दी गई थी. इस वजह से आईसीसी ने हाल बीते साल ही विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के नियम में बड़ा बदलाव किया था. जिसके मुताबिक पहले वो दो टीमें फाइनल में भिड़ती थीं, जिनके प्वाइंट ज्यादा होते थे. लेकिन अब नए निमय के अनुसार वो टीमें भीड़ेंगी जिनके पर्सेंटेज ज्यादा होंगे.

इस नए बदलाव के साथ ही आपको आईसीसी के नियम के बारे में बता देते हैं, दरअसल वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप में यदि कोई भी टीम 6 सीरीज में हिस्सा लेती है, तो पॉइंट टेबल में वह अधिकतम 720 (120×6) पॉइंट्स जुटा सकती है. इस आधार पर 6 सीरीज में टीम के कुल 480 पॉइंट्स बनते हैं, ऐसे में टीम का कुल प्रतिशत 66.67% होगा.