इंडियन प्रीमियर लीग-2020 के 28वें मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम को एक करारी हार दी है. इस मुकाबले में आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया. जिसमें उनकी टीम 195 रन बनाए. जबाव में कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम महज 112 रन ही बना सकी और उनकी मैच 82 रनों से जीत लिया. जिसके बाद एबी डिविलियर्स ने ये कहा.

एबी को मिला मैन ऑफ़ द मैच का खिताब

सोमवार को हुए मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम ने कमाल की बल्लेबाजी सभी प्रशंसकों को काफी खुश किया. इस मुकाबले में आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बालेबाजी की, जिसे सही निर्णय साबित करते हुए एबी डिविलियर्स 73 रनों की पारी खेली.

डिविलियर्स और उनकी टीम के और बल्लेबाजों की मदद से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम के सामने 195 रनों का विशाल लक्ष्य रखने में सफल हो सकी. जबाव में केकेआर की टीम ने ख़राब बल्लेबाजी की और महज 112 रन ही बना सकी.

इस मैच में एबी डिविलियर्स ने 33 गेंदों की मदद से 73 रनों की पारी खेली थी. जिसमें 6 छक्के और 5 चौके शामिल है. उनकी इस शानदार पारी के बदोलत आरसीबी इस मैच को 82 रन से जीत सकी. साथ ही डिविलियर्स को इस मैच में मैन ऑफ़ द मैच के खिताफ से नवाजा गया.

अपने प्रदर्शन से खुश नज़र आए डिविलियर्स

इस मुकाबले में एक शानदार पारी खेलकर एबी डिविलियर्स को खुश होते हुए देखा गया. वही उन्होंने मैच के खत्म होने के बाद बताया कि

“मैं प्रदर्शन से बहुत खुश हूँ. पिछले मुकाबले में मैं रन नहीं बना सका था, वो मेरे लिए काफी भयानक पल था. बहुत खुश हूँ कि आज जीत में मैंने योगदान दिया. आज मैंने खेल में खुद को भी एक अलग अवतार में देखा. जानता था कि विकेट बल्लेबाजी के लिए काफी कठिन था. लेकिन मुझे लगा कि 145-150 पर्याप्त नहीं था. इसलिए मैंने स्कोर को आगे बढाने के बारे में सोचा और 195 का लक्ष्य बनाकर मैं एक पल के लिए खुद सोचने पर मजबूर था. केकेआर की गेंदबाजी सच में आक्रामक तौर के रूप में की जा रही थी. मार्जिन छोटा है और आप को हर उर्जा का इस्तमाल करना होगा.”

मैदान पर केवल अच्छा करना है पहला लक्ष्य

डिविलियर्स

इस सीजन में डिविलियर्स विकेटकीपिंग करते हुए नज़र आ रहे हैं, जिसके बारे में डिविलियर्स ने बताते हुए कहा कि

“जैसा कि विराट ने कहा कि मेरी आँख में रोशनी थी, इसे बस मैंने ही महसूस नहीं किया. मैंने विकेटकीपिंग का मज़ा लिया है. इसके बारे में बहुत उत्साहित हूँ, मुझे कहना चाहिए. मैं विराट के साथ विचारों को बाउंस देता हूँ. एक रक्षक के रूप में आपके पास खेल की गति के बारे में एक बहुत अच्छा द्रष्टिकोण है. पूरी तरह से अलग कौशल, ये जीत के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है. मैंने विकेटकीपिंग के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत की है. मैं सबसे अच्छा बनना चाहते हूँ. इसपर मैं हमेशा काम करूंगा.”