इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में सभी टीमें अच्छा कर रही हैं. वही दिल्ली कैपिटल्स के मुख्य कोच रिकी पोंटिंग द्वारा खिलाड़ियों को खुलकर खेलने की गई स्वतंत्रता के चलते दिल्ली कैपिटल्स के तेज़ गेंदबाज एनरिक नॉर्टजे को प्रेरित किया और इसलिए उन्होंने आईपीएल इतिहास की सबसे तेज़ गेंद फेंकी. ऐसा कहना है टीम के टैलेंट स्काउट टीम के मुखिया विजय दहिया का.

नॉर्टजे ने फेंकी दी आईपीएल 2020 की सबसे तेज़ गेंद

RR vs DC, IPL 2020: Delhi Capitals pacer Anrich Nortje bowls the fastest ever ball in IPL at 156.22 kmph - Sports News

साउथ अफ्रीका के तेज़ गेंदबाज एनरिक नॉर्टजे ने बुधवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेले गए मैच में 156.2 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से गेंद फेंकी जो इंडियन प्रीमियर लीग 2020 में सबसे तेज़ गेंद मानी गई हैं.

पूर्व भारतीय विकेटकीपर विजय दहिया ने यूएई में आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि

“एक शब्द जो हमारी टीम में तैयार रहता है वो है स्वतंत्रता. आप लड़को को खुल कर खेलने और मैदान पर जाकर आत्मविश्वास से खेलने की स्वतंत्रता देते हैं. पहले दिन से, पोंटिंग ने इस बात पर जोर दिया है कि हम अपने बल्लेबाजों और गेंदबाजों को खुलकर खेलने की स्वतंत्रता देंगे.”

“नॉर्टजे, स्वाभाविक तौर पर तेज़ गेंद डालते हैं. ऐसे कोई निर्देश नहीं हैं कि आप तेज़ ही डालें. आप कर किसी से तेज़ डालने की नहीं कह सकते. अगर आपके पास स्वाभाविक तेज़ी है तो जाहिर सी बात है कि आप डालना ही चाहेंगे.” 

नॉर्टजे का यह दिल्ली के लिए पहला आईपीएल हैं

अपना पहला आईपीएल खेल रहे एनरिक नॉर्टजे अपना शानदार प्रदर्शन कर रहे है. दरअसल, दिल्ली कैपिटल्स में इंग्लैंड के क्रिस वोक्स के लीग से नाम वापस लेने के बाद नॉर्टजे दिल्ली की टीम में आये थे. वह पिछले सीजन कोलकाता नाईटराइडर्स में थे. लेकिन कंधे की चोट के कारण खेल नहीं सके थे.

विजय दहिया ने कहा कि

“जब आप रिप्लेसमेंट लाते हैं तो आप कुछ चीज़ें देखते हैं. तेज़ी एक चीज़ है, लेकिन आप जानते हैं कि वह इंटरनेशनल खिलाड़ी भी हैं. मैनेजमेंट उन पर नज़र बनाए हुए था. हर कोई जानता है कि उनके पास तेज़ी है. जब आप तेज़ी की तरफ देखते हैं तो आप पूर्ण तेज़ गेंदबाज देखते हैं.”

पिछले साल ही नॉर्टजे ने रखा था इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम

यह खिलाड़ी चोटों से काफी जूझता हुआ नज़र आया है. वह पहले रग्बी खेलते थे लेकिन 17 साल में चोटिल होने के बाद उन्होंने इस खेल को छोड़ दिया. इसके बाद वह अपने पूरे क्रिकेट करियर में चोटों से जूझ रहे हैं. इसी कारण वह पिछले साल आईपीएल नहीं खेल पाए थे.

दहिया ने कहा कि फिटनेस पर कितना जोर देना है वह खिलाड़ी पर निर्भर करता है. विजय दहिया ने नॉर्टजे की मेहनत की तारीफ की. उन्होंने कहा कि

“अच्छी बात यह थी कि कोविड-19 के कारण दिल्ली का शिविर तीन सप्ताह का था, आपको इसमें लय हासिल हो जाती है. नॉर्टजे का काम करने का तरीका शानदार है. यह उनमें आत्मविश्वास लेकर आता है. उन्होंने अच्छा किया है. कोविड के कारण आपको अपनी फिटनेस पर ध्यान देने का मौका मिला. बीते छह महीनों में क्रिकेट नहीं थी इसलिए आपको मजबूती से रिकवर होने के लिए पूरा मौका मिला.”