रविवार को शारजाह के शारजाह क्रिकेट स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच आईपीएल-2020 का 9वां मैच खेला गया. जिसमें राजस्थान के दाय हाथ के ऑलराउंडर खिलाड़ी राहुल तेवतिया ने 53 रनों की शानदार पारी खेली, उन्होंने अपनी टीम के लिए एक ही ओवर में पांच छक्के लगा दिए. जिसके बाद भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सहवाग और युवराज सिंह का ये रिएक्शन रहा.

युवराज सिंह ने तेवतिया की बल्लेबाजी पर ये कहा

हारे हुए मैच में जान डालने वाले संजू सैमसन ने अपनी टीम की स्थिति को समझते हुए, अपने खेल के अनुभव से राजस्थान रॉयल्स की टीम को आखिरी समय तक नहीं छोड़ा. लेकिन किंग्स इलेवन पंजाब के स्टार गेंदबाज मोहम्मद शमी ने संजू सैमसन को 85 रनों पर आउट करके, पवेलियन का रास्ता लिखा दिया.

वही उनके जाने के बाद मैच को आखिरी समय तक अंजाम देने के लिए राहुल तेवतिया ने अपने बल्लेबाजी का रंग बिखेरते हुए, किंग्स इलेवन पंजाब के शेल्डन कॉटरेल के एक ही ओवर में पांच छक्के लगाकर राजस्थान रॉयल्स टीम की जीत पक्की कर दी.

जिसके बाद उनकी इस बल्लेबाजी को देखते हुए भारतीय टीम पूर्व खिलाड़ी युवराज सिंह ने कहा कि

“मिस्टर राहुल तेवतिया ना भाई ना. एक गेंद छोड़ने के लिए धन्यवाद, क्या मैच था. शानदार जीत के राजस्थान रॉयल्स को बधाई. साथ ही उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब की टीम के मयंक अग्रवाल और राजस्थान रॉयल्स के संजू सैमसन की तारीफ भी की.”

वीरेन्द्र सहवाग का था ये रिएक्शन

राहुल तेवतिया की किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ खेली गई, शानदार पारी के बाद भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने उनकी पारी पर रिएक्शन देते हुए कहा कि

“तेवतिया में माता आ गई. जिंदगी और क्रिकेट मिनटों में बदल जाते हैं.”

राजस्थान रॉयल्स की टीम ने आईपीएल-2020 के 13वें सीजन में एक परफेक्ट और बैलेंस टीम के साथ आगाज किया हैं. जहा उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम को हराकर आईपीएल में अपनी पहली जीत दर्ज की थी. जिसमे चेन्नई की टीम मात्र 200 रन ही बना सकी थी.

वही आईपीएल-2020 के अपने दूसरे और सबसे बड़े मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स की टीम ने किंग्स इलेवन पंजाब की टीम को शारजाह के मैदान पर एक करारी हार दी हैं. जिसमें ऐसा माना जा रहा है कि ये आईपीएल के इतिहास की सबसे बड़ी जीत है.

तेवतिया ने 19 गेंदों पर खेले थे मात्र 8 रन

किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ राहुल तेवतिया शुरूआती 19 गेंदों पर मात्र 8 रन ही बना सके थे. वही संजू सैमसन के कंधो पर दबाव पड़ा तो वो 42 गेंदों पर 85 रनों पारी खेलकर आउट हो गए. जिसमें उनके नाम सात छक्के थे.

वही आखिरी के मैच में 18 गेंदों पर 51 रन चाहिए थे, तो लोकेश राहुल ने शेल्डन कॉटरेल के हाथो में गेंद सौपी. लेकिन राहुल तेवतिया ने उनके ओवर में पांच छक्के लगाकर मैच का रुख ही पलट दिया. लेकिन वो भी आउट हो गए. जहा राजस्थान की टीम को एक ओवर में 6 रन चाहिए थे, तो वही टॉम करन ने आखिरी ओवर में चौंका लगाकर मैच जीत लिया.