Salim Durani

भारतीय क्रिकेट का इतिहास (Indian Cricket History) काफी दिलचस्प और हैरानीभरा है. कई भारतीय क्रिकेटरों ने अपने परफॉर्मेंस से इतिहास लिखा है. भारतीय क्रिकेट में ऐसे कई सितारे हुए हैं जिन्होंने अपने परफॉर्मेंस से ऐसा कमाल किया है जिसकी चर्चा आज भी होती है. ऐसा ही एक क्रिकेटर थे. जो दर्शकों की डिमांड पर छ्क्का लगाता देते थे.अफगानिस्तान से आकर भारत में बना मशहूर क्रिकेटर. आइये एक बार फिर भारतीय क्रिकेट का इतिहास (Indian Cricket History) के पन्ने की दिलचस्प बातों को जानते हैं.

अफगानिस्तान से आकर भारत में बना मशहूर क्रिकेटर

Salim Durani

सलीम दुर्रानी (Salim Durani) का जन्म अफगानिस्तान के काबुल में हुआ था लेकिन बाद में उनका परिवार कराची में जा बसा था. जब दुर्रानी (Salim Durani) केवल 8 महीने के थे तभी उनका परिवार अफगानिस्तान से कराची आ गया. बाद में जब भारत और पाकिस्तान का बंटवारा हुआ तो सलीम दुर्रानी भारत में आ गए.

बता दें कि, 60-70 के दशक में दुर्रानी ने अपने ऑलराउंड परफॉर्मेंस से अलग पहचान बनाई थी. भारत के क्रिकेट इतिहास में दुर्रानी एक शानदार ऑलराउंडर के तौर पर जाने जाते हैं.  बता दें कि, सलीम दुर्रानी पहले ऐसे भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्हें अर्जुन अवार्ड से नवाजा गया था. साल 1960 में  दुर्रानी को अर्जुन अवार्ड का खिताब दिया गया था.

सलीम दुर्रानी का क्रिकेटिंग करियर

Salim Durani

सलीम दुर्रानी ने भारत की ओर से कुल 29 टेस्ट मैच खेले और इस दौरान 1202 रन बनाए . जिसमें 1 शतक और 7 अर्धशतक शामिल रहा, इसके अलावा 75 विकेट लेने में सफल रहे थे. उन्होंने साल 1960 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुंबई टेस्ट में डेब्यू किया था. बता दें कि भले ही दुर्रानी का करियर बड़ा नहीं रहा लेकिन उन्होंने अपने खेल से दर्शकों का खूब मनोरंजन किया.

दर्शकों के कहने में छक्का जमाने (Hit Sixes on Demand) के लिए दुर्रानी काफी मशहूर थे. वे 60-70 दशक में आतिशी बल्लेबाजी करने के लिए जाने जाते थे.

प्लेइंग इलेवन में जगह ना मिलने से फैंस हुए नाराज

Salim Durani

क्रिकेट इतिहास की बात की जाए तो  इस खेल के प्रति लोगों की दिवानगी पहले ही है.फैंस के पसंदीदा खिलाड़ी को टीम में शामिल ना किया जाए तो लोग मेनैजमेंट के खिलाफ मौर्चा खोल  देते हैं. ऐसा ही नजारा973 में देखने को मिला था.  इंग्लैंड क्रिकेट टीम 1973 में भारत दौरे पर आई. उस समय भारतीय टीम मे  सलीम दुर्रानी को शामिल नहीं किया गया.

जिससे उनके फैंस काफी नाराज हो गये.  मैदान पर सिर्फ एक ही नारा सुनाई दे रहा था, ‘नो दुर्रानी नो टेस्ट’. आज कल तो अपने फेवरेट खिलाड़ी को सपोर्ट करने के लिए फैंस ट्विटर का सहारा लेते है. जिसके बाद वो खबर आग की तरह सोशल मीडिया पर तैर जाती है.

सलीम दुर्रानी ने परवीन बाबी के साथ फिल्म में किया काम

salim durani and parveen babi

बॉलीवुड खूबसूरत अभिनेत्री परवीन बाबी (salim durani and parveen babi) के साथ सलीम दुर्रानी ने फिल्म में भी काम किया है. 1973 में टेस्ट क्रिकेट से रिटायर होने के बाद दुर्रानी ने ‘चरित्र’ नाम फिल्म में काम किया जिसमें उनकी हीरोइन परवीन बाबी थीं. सलीम दुर्रानी को  अर्जुन अवॉर्ड्स से सम्मानित किया गया. उन्हें 2011 में बीसीसीआई द्वारा नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया था.दुर्रानी अपने वक्त में एक शानदार ऑलराउंड  थे. जिसके लिए उन्हें आज भी याद किया जाता हैं.