Team india score thrice 400 plus runs in first innings after loses 5 wickets within 100 runs in IND vs ENG 5th Test
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

गेंदों के रंग की तरह वनडे या टी20 क्रिकेट की तुलना में टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) पूरी तरह से अलग खेल है। जो खेल के सबसे अधिक मांग वाले प्रारूप के रूप में जाना जाता है। टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) एक खिलाड़ी के कौशल, सहनशीलता और दृढ़ता की सच्ची परीक्षा है। भले ही सीमित ओवरों का क्रिकेट इन दिनों सबसे लोकप्रिय प्रारूप है, लेकिन इस बात से बिल्कुल इनकार नहीं किया जा सकता है कि हर क्रिकेटर टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में श्रेष्ठता प्राप्त करने के लिए तरसता है।

इस फॉर्मेट में रन बनाना जितना आसान है, उतना ही क्रिकेट के इस फॉर्मेट में अपनी छाप छोड़ना है। क्रिकेट जगत में कई खिलाड़ी आए और गए जिन्होंने क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई। कई ऐसे भी आए जिन्होंने इस फॉर्मेट में तिहरा शतक तक जड़ा।

लेकिन टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) के इतिहास में कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी भी हैं जो टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में अपना जादू बिखरने में असफल रहे हैं। हालांकि इन खिलाड़ियों ने लिमिटेड ओवर के क्रिकेट में बेहद ही शानदार प्रदर्शन दिखाया है। आज इस आर्टिकल के जरिए हम ऐसे ही 5 खिलाड़ियों के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिन्होंने लिमिटेड ओवर के क्रिकेट में तहलका मचाया लेकिन टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) में वह फिसड्डी ही रहे…..

Test Cricket में अपनी छाप छोड़ने में असफल रहे ये 5 भारतीय खिलाड़ी

दिनेश कार्तिक

dinesh karthik- Test Cricket

दिनेश कार्तिक ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के लिए आईपीएल 2022 में रन बनाने के बाद अपने करियर को फिर से जीवित कर लिया है। हालांकि, वह उन खिलाड़ियों में से एक थे, जिनसे एक ठोस टेस्ट करियर की उम्मीद की जा रही थी। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं हुआ। कार्तिक ने जो 26 टेस्ट खेले, उनमें से एक शतक और सात 50 के साथ सिर्फ 1025 रन ही बना सके। ऐसे में यह सुनिश्चित रूप से माना जा सकता है कि उनका टेस्ट करियर (Test Cricket) खत्म हो गया है। लेकिन उन्होंने वनडे और टी20 में बेहद ही शानदार प्रदर्शन दिखाया है।

दिनेश कार्तिक ने हाल ही में घर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ T20I श्रृंखला के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी की। 2007 के इंग्लैंड दौरे के दौरान विकेटकीपर-बल्लेबाज आश्चर्यजनक सफलता की कहानियों में से एक था, जिसने पारी की शुरुआत करते हुए तीन अर्धशतक बनाए। कुल मिलाकर उन्होंने देश में पांच टेस्ट (Test Cricket) खेले हैं, जिसमें उन्होंने 28.40 की औसत से 284 रन बनाए हैं। अगस्त 2007 में द ओवल टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ 91 रन था।

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse