Harshal Patel

Harshal Patel: इंडियन प्रीमियर लीग के 15वें सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के गेंदबाज हर्षल पटेल ने अपने खेल प्रदर्शन से सबका दिल जीता है। लेकिन एक ऐसा दौर भी था जब हर्षल पटेल को खेलने का मौका ही नहीं मिल रहा था। ब्रेक्फस्ट विद चैंपियंस में हर्षल पटेल ने बताया कि कैसे उन्हें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) सीज़न के बीच में घर वापस भेज दिया गया था और उन्होंने इसे “अस्वीकृति का प्रतीक” करार दिया था।

साल 2016 था Harshal Patel के लिए बुरे सपने की तरह

harshal patel

हाल ही में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ब्रेक्फस्ट विद चैंपियंस में अपना इंटरव्यू दिया है। इस इंटरव्यू में पेसर ने याद किया है कि कैसे उन्हें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) सीज़न के बीच में घर वापस भेज दिया गया था और उन्होंने इसे “अस्वीकृति का प्रतीक” करार दिया था। पटेल ने खुलासा करते हुए कहा,

“मैंने 2016 में 5 गेम खेले और उसके बाद एक भी मैच नहीं खेला। 2017 में फिर से, वही स्थिति। मुझे एक बार घर भी भेजा गया था। यह बहुत पहले होता था क्योंकि अगर आप एक खिलाड़ी को रख रहे हैं, तो उसके लिए होटल का कमरा बुक करना होगा और आपको उसे प्रैक्टिस के लिए ले जाना होगा. उसकी फ्लाइट टिकट बुक करना होगा। मुझे स्पष्ट रूप से याद है कि क्या हुआ था।”

Harshal Patel को IPL के बीच में ही भेज दिया गया था घर वापस

harshal patel

हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने आगे बताया कि अविनाश वैधया ने उन्हें अपने कमरे में बुलाया और उनसे कहा कि डैनियल विटोरी उनसे बात करना चाहते हैं। उन्होंने आगे खुलासा किया कि डैनियल ने उनसे कहा कि वह हर्षल को चार पाँच गेम खेलते हुए नहीं देख रहे हैं। इसलिए वह उन्हें घर भेज रहे हैं। हर्षल पटेल ने कहा,

“अविनाश वैधया ने मुझे कमरे में बुलाया और उन्होंने कहा ‘डैन (डैनियल विटोरी) आपसे बात करना चाहता है। और हम रुके हुए थे। रिट्ज-कार्लटन में। तो उसने मुझे नाश्ते के एरिया में बुलाया और मुझसे कहा ‘हम आपको कम से कम 4-5 और गेम खेलते हुए नहीं देखते हैं इसलिए हम आपको घर भेज रहे हैं। लेकिन हम आपको वापस बुलाएंगे। जो अस्वीकृति का प्रतीक था, कि आप टीम में भी नहीं हैं। तब मुझे लगता है कि 4-5 मैचों के बाद आरसीबी नॉकआउट हो गई थी, हम क्वालीफाई करने वाले नहीं थे।”

यह पहली बार था जब मैंने वास्तव में खुद को किसी को बेचा था: Harshal Patel

harshal patel

हर्षल पटेल ने बताया कि उन्होंने डैनियल विटोरी को कॉल किया और पटेल ने उनसे कहा कि उन्हें एक गेम खेलने का एक मौका दे दें। आगे हर्षल ने बताया कि उन्होंने टीम को मैच कैसे जिताया। हर्षल पटेल (Harshal Patel) ने ब्रेक्फस्ट विद चैंपियंस में आगे कहा,

“इसलिए, मैंने विटोरी को मैसेज किया कि ‘मुझे एक गेम दो’। यह पहली बार था जब मैंने वास्तव में खुद को किसी को बेचा था। उन्होंने मुझे आखिरी गेम के लिए बुलाया और हम कोटला में दिल्ली के खिलाफ खेल रहे थे। मैंने जो पहला ओवर फेंका वह लगभग 14-15 रन पर चला और फिर नसें शांत हो गईं।

मैंने कहा ‘मैं पहले ही 15 रन बना चुका हूं, यह और कितना बुरा हो सकता है?’। फिर मैंने तीन विकेट लिए और टीम के लिए मैच जीत लिया। मैं उस मैच में प्लेयर ऑफ द मैच था। और फिर अगले साल 2018 की नीलामी थी।”