India-women-cricket-team

हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) के शानदार शतक के चलते भारतीय महिला टीम ने पहले वार्म अप मैच में साउथ अफ्रीका को 2 हराया. भारतीय महिला विश्व कप (Women’s WC 2022) के मात्र कुछ ही दिन बचे हैं. इससे पहले भारतीय टीम ने अच्छे संकेत दिये है. दरअसल साउथ अफ्रीका के बीच वार्म अप मैच खेला गया. जिसमें भारतीय महिला टीम ने बाजी मार ली. हालांकि शुरूआत में भारतीय टीम थोड़ा सा लड़खड़ा गई थी, क्योंकि अनुभवी बल्‍लेबाज स्‍मृति मंधाना के सिर पर बाउंसर लग गई, जिसके बाद उन्‍होंने तुरंत मैदान छोड़ दिया. उन्‍हें रिटायर्ड हर्ट होना पड़ा और वे 12 रन ही बना पाईं. हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) ने अपनी शतकीय पारी से टीम को संभाला.

भारत ने साउथ अफ्रीका को 2 रन हराया

IND vs PAK

भारत ने पहले बैटिंग की थी और 50 ओवर में 9 विकेट पर 244 रन बनाए थे. जिसके जबाव में साउथ अफ्रीका की टीम 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 242 रन ही बना सकी. साउथ अफ्रीका की तरफ सुन लुस ने 94 रन की पारी खेलकर कर सबसे अधिक रन बनाए. वही भारतीय टीम को इस स्कोर तक पहुंचाने में फॉर्म में वापसी कर शतक जड़ने वाली हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) का बड़ा हाथ रहा. उन्होंने 119 गेंदों पर 114 रन की दमदार पारी खेली, जिसमें 11 चौके शामिल रहे. हरमन के अलावा भाटिया ने भी 58 रनों की बेजोड़ इनिंग खेली. जबकि कप्तान मिताली राज बिना खाता खोले ही पवैलियन लोट गई.

भारतीय महिला टीम की तरफ से शानदार गेंदबाजी देखने को मिली. राजेश्वरी गायकवाडी ने विश्व कप से पहले वार्म अप मैच में  शानदार गेंदबाजी का नमूना पेश किया. गायकवाडी ने अपने 10 ऑवरो में 46 रन देकर 4 विकेट अपने नाम किये. वही झूलन गोस्वामी ने केवल पांच ऑवर डाले जिसमें 15 दिये और कोई विकेट हासिल नहीं किया. जबकि मेगा, स्नेहा और पूनम के हिस्से में एक एक विकेट आया.

मंधाना को होना पड़ा रिटायर्ड हर्ट

Smriti Mandhana

स्मृति मंधाना (Smriti Mandhana) मैच के शुरुआत में शबनीम इस्‍माइल की बाउंसर से चोटिल हो गई, जिसके बाद उन्‍हें रिटायर्ड हर्ट होना पड़ा. वे 12 रन ही बना पाई. बाउंसर लगने के बाद टीम डॉक्‍टर ने मंधाना की जांच की और उन्‍हें बल्‍लेबाजी जारी रखने के लिए फिट घोषित किया गया. हालांकि वे रिटायर्ड हर्ट हुईं. इस मुकाबले में कप्तान मिताली राज खाता भी नहीं खोल पाई थी कौर का पारी में जोखिम कम रहा और भारत की बैटिंग पूरी तरह से हरमनप्रीत के नाम रही. इसके अलावा कोई बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर सका.