भारत और ऑस्ट्रेलियाई टीम के बीच इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेले गये तीसरे वनडे मैच में आज रविवार 24 सितम्बर को भारतीय टीम के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने अपने शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन के चलते भारतीय टीम को 5 विकेट से जीत दिला दी.

भारत की इस जीत में हीरो रहे हार्दिक पंड्या को उनके शानदार प्रदर्शन के चलते मैन ऑफ द मैच के खिताब से भी नवाजा गया.

फिंच के शतक से खड़ा किया सम्मानजनक स्कोर 

इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान स्टीवन स्मिथ ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की शुरुआत अच्छी रही और ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 70 रन के स्कोर तक अपना कोई विकेट नहीं गवाया था.

टीम के 70 रन के स्कोर पर वार्नर के आउट होने के बाद दुसरे विकेट के लिए भी एरोन फिंच और कप्तान स्टीवन स्मिथ के बीच 154 रन की शानदार साझेदारी हुई, जिसके चलते ऑस्ट्रेलियाई टीम ने निर्धारित 50 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 293 रन बनाए.

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से एरोन फिंच ने जहां शानदार 125 गेंद पर 124 रन की पारी खेली, वही कप्तान स्टीवन स्मिथ ने 71 गेंद में 63 रन की पारी खेली.

हार्दिक की पारी ने दिलाई जीत

जवाब में लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत काफी शानदार रही और टीम के दोनों ही ओपनर अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा ने पहले विकेट के लिए 139 रन की शानदार साझेदारी की.

हालाँकि इस साझेदारी के बाद रहाणे और रोहित जब आउट हुए, उसके बाद स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या ने शानदार अर्धशतकीय पारी खेली, जिसके चलते भारत ने ये मैच 47.5 ओवर में आसानी से 5 विकेट से जीत लिया.

हार्दिक को ऑलराउंड खेल के लिए मिला ‘मैन ऑफ़ द मैच’

भारत के हार्दिक पंड्या को उनके शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए के लिए ‘मैन ऑफ़ द मैच’ चुना गया. पंड्या ने जहां गेंदबाजी में 10 ओवर में 58 रन देकर एक विकेट लिया, वही बल्लेबाजी करते समय 5 चौकों व 4 छक्कों की मदद से मात्र 72 गेंद में 78 रन बनाए.

ये कहा हार्दिक ने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ लेते हुए 

भारत के स्टार खिलाड़ी हार्दिक पंड्या ने मैंन ऑफ़ द मैच लेते हुए कहा,

टीम की जीत में प्रदर्शन करने पर बहुत अच्छा महसूस हो रहा है, लेकिन मैच को पूरा खत्म नहीं कर सका इसके लिए थोड़ा निराश हूं, मुझे बल्लेबाजी के लिए ऊपर भेजा गया. जिसको मैंने एक अवसर के रूप में देखा. मैं बाएं हाथ के स्पिनर को निशाना बनाना चाहता था और इसलिए मुझे एस्टन एगर के खिलाफ कुछ छक्के भी मिले.”

पंड्या ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा,

“वैसे मैं हर विभाग से टीम में योगदान देने की कोशिश कर रहा हूं और अपने खेल को धीरे-धीरे और बेहतर बनाने की कोशिश कर रहा हूं.”