Hardik Pandya Final Match Interview

IPL 2022: गुजरात टाइटंस के कप्तान हार्दिक पाण्ड्या (Hardik Pandya) आईपीएल 2022 के फाइनल मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स को मात देकर आईपीएल की ट्रॉफी जीतने वाले 7वें कप्तान बन गए हैं। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेले गए इस महा मुकाबले में इसी साल लीग के साथ जुड़ने वाली गुजरात टाइटंस ने अपने पहले सीजन में खिताब अपने नाम कर इतिहास रच दिया है।

इस बड़े मैच में हार्दिक पाण्ड्या (Hardik Pandya) ने लाजवाब प्रदर्शन करते हुए जीत को अपनी टीम की झोली में डाला है, जिसके चलते उन्हें फाइनल मैच में ‘मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ड से भी नवाजा गया है।

Hardik Pandya ने फाइनल में झटके 3 विकेट और बनाए 34 रन

b93cfc2e c067 4b66 aec8 07190f94f065

गुजरात टाइटंस के कप्तान हार्दिक पाण्ड्या (Hardik Pandya) फाइनल की रात अपने  राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आग उगलती गेंदबाजी करते नजर आए। इस मैच में उन्होंने राजस्थान रॉयल्स के बेस्ट बल्लेबाज जोस बटलर, संजू सैमसन और शिमरोन हेटमायर के लिए। जिसके चलते पिंक आर्मी केवल 130 रनों पर सिमट गई।

वहीं 131 रनों का पीछा करने उतरी गुजरात टाइटंस ने पहला 2 विकेट जल्दी गंवा दिए थे। इसके बाद हार्दिक ने ही कप्तानी पारी खेलते हुए महत्वपूर्ण 34 रन बनाए और शुभमन गिल के साथ 63 रन की साझेदारी की, जिसने गुजरात को जीत की दहलीज पर खड़ा कर दिया।

“सही समय पर दिखाना चाहता था मैंने कितनी मेहनत की है” – Hardik Pandya

Hardik Pandya in GT vs RR Final

आईपीएल 2022 के लिए हुए मेगा ऑक्शन से पहले किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि गुजरात टाइटंस इस साल की चैंपियन बनने वाली है। लेकिन सभी विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपनी ताकत को मैच दर मैच बढ़ाते हुए गुजरात ने लीग फेस को टेबल के टॉप पर फिनिश किया और फिर क्वालीफायर-1 और फाइनल में राजस्थान को मात देकर ट्रॉफी अपने नाम की, इस शानदार सीजन के बाद हार्दिक पाण्ड्या ने कहा,

“मैं सही समय पर दिखाना चाहता था कि मैंने किसके लिए कड़ी मेहनत की है। गेंदबाजी के दृष्टिकोण से आज का दिन था मैंने सर्वश्रेष्ठ के लिए सर्वश्रेष्ठ को बचाया। सभी सही लेंथ पर टिके रहने की जरूरत थी, बल्लेबाजों को सही शॉट खेलने थे। मेरे लिए मेरी टीम सबसे महत्वपूर्ण है।”

“मैं हमेशा से उस तरह का व्यक्ति रहा हूं। अगर मेरा सीजन खराब होता और मेरी टीम जीत जाती, तो मैं इसे ले लूंगा। मेरे लिए सबसे पहले बल्लेबाजी आती है, हमेशा मेरे दिल के करीब रहने वाली है। जब हमने नीलामी कराई तो यह स्पष्ट था कि मुझे मार्गदर्शन के लिए टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करनी होगी।”

One reply on ““सही समय पर दिखाना चाहता था मैंने कितनी मेहनत की है”, Hardik Pandya ने ट्रॉफी जीतकर आलोचकों को दिया करारा जवाब”

Comments are closed.