shane bond

भारतीय क्रिकेट टीम के आलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) आईपीएल टीम मुंबई इंडियंस के मुख्य खिलाड़ियों में से एक हैं। हालांकि अभी तक दूसरे चरण में वो टीम मुंबई के लिए अभी तक प्रदर्शन नहीं किया है। ऐसे में मुंबई इंडियंस के गेंदबाजी कोच शेन बॉन्ड का कहना है कि हार्दिक पांड्या को टी20 विश्व कप में भारत के लिए उनकी उपयोगिता को ध्यान में रखते हुए आईपीएल के दूसरे चरण में अब तक एक्शन से बाहर रखा गया है।

क्योंकि कुछ समय पहले ही Hardik Pandya चोटिल हो गए थे और हमेशा से ही मुंबई इंडियंस के मैच विजेता खिलाड़ी हैं। दोनों ही मैचों में मुंबई हार चुकी है और टीम में हार्दिक की कमी साफ तौर पर नजर आती है। अब अगर उन्हें मौके दिए गए तो हो सकता है कि आगामी टी20 विश्वकप के लिए वो और ज्यादा बेहतर बन सकते हैं।

मुंबई की फ्रेंचाइजी टीम इंडिया की जरूरतों को समझती है : शेन बांड

mumbai indians

भारतीय टीम के मुख्य खिलाड़ियों में से एक हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) कुछ महीने पहले चोटिल हो गए थे, जिसके बाद से वो राष्ट्रीय टीम के साथ ही अपनी आईपीएल टीम के लिए भी खुलकर बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही नहीं कर पा रहे हैं।

2021 सत्र के दूसरे चरण में मुंबई इंडियंस के खिलाफ हार के बाद शेन बांड ने कहा,

“हम स्पष्ट रूप से टीम इंडिया के साथ अपनी टीम की जरूरतों को संतुलित कर रहे हैं। एक चीज जो यह फ्रेंचाइजी वास्तव में अच्छा करती है, वह अपने खिलाड़ियों की न केवल इस प्रतियोगिता को जीतने पर बल्कि इसके बाद होने वाले टी 20 विश्व कप पर भी नजर रखती है।”

और ज्यादा चोटिल नहीं नहीं हो सकते Hardik Pandya : शेन बांड

MI IPL

आईपीएल टीम मुंबई इंडियंस के तेज गेंदबाजी कोच शेन बांड का कहना है कि, ” उम्मीद है कि Hardik pandya अगले मैच के लिए फिट हो जाएंगे। उन्होंने आज प्रशिक्षण लिया और सभी मामलों में बहुत अच्छी तरह से प्रदर्शन किया है।” हार्दिक के बारे में मुंबई इंडियंस को बीसीसीआई से कोई खास निर्देश नहीं मिला था, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि फ्रेंचाइजी हार्दिक का फिर से किसी भी तरह से घायल होने का जोखिम नहीं उठा सकती।

इसके आगे भी बात करते हुए बॉन्ड ने कहा,

“हम हार्दिक को मैदान पर वापस लाने के लिए बेताब हैं और हम उसे केकेआर के खिलाफ भी मैदान पर उतरने के लिए बेताब थे। लेकिन, आपको यह भी विचार करना होगा कि खिलाड़ी क्या चाहता है। चोटिल होने और बाकी टूर्नामेंट से चूकने के लिए उसे वापस लेने का कोई मतलब नहीं है जब हमारे पास इसे जीतने का मौका हो सकता है।”