Harbhajan Singh-Ashwin

भारत-इंग्लैंड (India vs England) के बीच नॉटिंघम में जारी पहले टेस्ट मैच की प्लेइंग इलेवन से स्पिनर आर अश्विन (R Ashwin) को बाहर का रास्ता दिखाया गया है. ऐसे में हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने इसके पीछे की वजह बताई है. पहले टेस्ट में भारतीय कप्तान 4 तेज गेंदबाज और एक स्पिनर रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) के साथ उतरे हैं.

क्यों अश्विन को जडेजा से ज्यादा दी जा रही है तरजीह?

Harbhajan Singh

पूर्व भारतीय स्पिनर का मानना है कि इंग्लैंड की उछाल लेती पिचों पर स्पिनरों का इस्तेमाल बहुत मुश्किल से ही किया जाएगा. ऐसे में जडेजा को उनकी विकेट-टू-विकेट गेंदबाजी और शानदार बल्लेबाजी के दम पर हर बार रविचंद्रन अश्विन से ज्यादा तरजीह दी जाएगी. हालांकि हाल ही में अश्विन ने फर्स्ट क्लास मैच में सरे के लिए खेलते हुए 6 विकेट चटकाए थे.

लेकिन, बुद्धवार को उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट की प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं दी गई. क्योंकि विराट कोहली ने चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरने का निर्णय लिया है. इस बारे में बात करते हुए हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने कहा कि,

‘‘मुझे लगता है कि यदि आप अश्विन को खिलाते तो पुछल्ले बल्लेबाज ज्यादा हो जाते. आपको नहीं पता कि कितनी स्पिन गेंदबाजी इस्तेमाल की जाएगी.’’

जडेजा विदेशों में बेहतर बल्लेबाज साबित हुए हैं

photo 2021 08 05 17 22 23

बात करें पहले दिन के खेल की तो टीम इंडिया के गेंदबाजों ने इंग्लैंड को सिर्फ 183 रन पर ही समेट दिया था. जडेजा को पहली पारी में सिर्फ तीन ओवर डालने का मौका मिला था. जडेजा के बारे में बात करते हुए हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने कहा कि,

‘‘इस वजह से आप जितने ओवर स्पिन में इस्तेमाल करोगे. जड्डू इन ओवर में गेंदबाजी कर सकता है. और हमें इस निष्कर्ष पर कैसे पहुंच जाना चाहिए कि जड्डू को एकमात्र स्पिनर के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. यदि आप विदेशों के प्रदर्शन को देखो तो जड्डू बेहतर बल्लेबाज रहा है और निचले क्रम में उसका प्रदर्शन मजबूत रहा है.’’

मैनेजमेंट का फैसला सही

photo 2021 08 05 17 21 18

हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने इसी सिलसिले में आगे बातचीत करते हुए कहा कि,

‘‘और क्या ऐसा है कि जड्डू ने विकेट नहीं चटकाए हैं? यह सीरीज का पहला टेस्ट है. आप जीतना चाहते हो लेकिन साथ ही आप अपना डिफेंस भी तैयार करना चाहोगे. आप बल्लेबाजी के पहलू के फायदे को गंवाना नहीं चाहते और मुझे लगता है कि यदि टीम प्रबंधन इस तरह सोचता है तो यह बिल्कुल सही है.”