harbhajan singh says if dhoni was the captain from the beginning csk could not reach the top 4
harbhajan singh says if dhoni was the captain from the beginning csk could not reach the top 4

Harbhajan Singh: चेन्नई सुपर किंग्स के लिए आईपीएल का 15वां सीजन बेहद खराब रहा. 13 साल के सफर में ऐसा दूसरी बार देखने को मिला जब सीएसके इस तरह से बिखरती हुई नजर आई. चेन्नई की स्थिति पर हरभजन सिंह ने बड़ी प्रतिक्रिया दी है और उन्होंने एमएस धोनी को लेकर बड़ी बात कही दी है, जो शायद उनके फैंस को पसंद भी ना आए. हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने इस बारे में क्या कुछ कहा जानिए इस रिपोर्ट के जरिए…

कप्तानी बदलने के बाद भी नहीं पड़ा चेन्नई पर कोई असर

MS Dhoni

दरअसल आईपीएल की चार बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स इस साल प्लेऑफ की रेस के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी. 15वें सीजन के आगाज से महज 2 दिन पहले ही धोनी ने रविंद्र जडेजा को टीम की कप्तानी सौंपी थी. लेकिन, बाकी टीमों की तरह चेन्नई भी आईपीएल 2022 मेगा नीलामी की वजह से अपना सही संयोजन तलाशने में समस्याओं का सामना करती हुई नजर आई. जिस पर दिग्गज हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने भी गौर फरमाया है.

टीम के सबसे सफल गेंदबाज दीपक चाहर इंजरी के कारण इस साल सीएसके के साथ नहीं जुड़ सके. ऐसे में  उनका रिप्लेसमेंट ढूंढने में फ्रेंचाइजी को काफी वक्त लगा. वहीं बीते सीजन सबसे ज्यादा रन बनाकर ऑरेंज कैप जीतने वाले गायकवाड़ को कमबैक करने में काफी लंबा समय लगा. जडेजा के नेतृत्व में टीम को 8 मैचों में से सिर्फ 2 मुकाबले में जीत नसीब हुई. इसके बाद उन्होंने एमएस धोनी को वापस कप्तानी सौंप दी.

एमएस धोनी ने बताया कि कप्तानी के कारण उनके (जडेजा) गेम पर इसका काफी असर पड़ रहा है. लेकिन, बीच सीजन सीएसके के लिए कप्तानी बदलने का फैसला बिल्कुल वैसा था जैसे अब पछताते होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत. कप्तानी तो बदल गई लेकिन, टीम के हालात जस के तस ही दिखे. माही की कप्तानी में चेन्नई ने 5 मैचों में सिर्फ 2 मुकाबले जीते और प्लेऑफ से बाहर हो गई.

धोनी भी सीएसके के कप्तान होते तब भी टीम क्वालिफाई नहीं करती

Harbhajan Singh on MS Dhoni

सीएसके टीम के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) का इस बारे में कहना है कहना है कि धोनी शुरू से ही टीम के कप्तान होते, तो भी CSK प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाती. इस बारे में स्पोर्ट्सकीड़ा से बातचीत तकचे हुए भज्जी ने कहा,

”अगर धोनी टीम के कप्तान बने रहते, तो सीएसके को वाकई में फायदा होता और अंक तालिका में शीर्ष स्थान पर मौजूद होते. लेकिन, वे अभी भी क्वालीफाई नहीं कर पाते क्योंकि उनके पास टीम नहीं है. उनके पास एक मजबूत गेंदबाजी यूनिट नहीं है. टीम के लिए विकेट चटकाने वाले दीपक चाहर चोटिल हो गए, यहां तक कि बल्लेबाज भी उतना अच्छा नहीं खेल पाए.”

चेपॉक में खेलती चेन्नई तो क्वालीफाई कर जाती

CSK

इतना ही नहीं हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने ये भी माना कि यदि सीएसके अपने घरेलू मैदान चेपॉक में खेल रही होती तो स्थिति कुछ और होती और इससे फर्क भी पड़ता और वो क्वालीफाई भी कर सकते थे. उन्होंने इस पर बात करते हुए कहा,

“इससे [चेन्नई में खेलना] बहुत बड़ा अंतर होता. चेन्नई निश्चित तौर पर इस टीम के साथ भी प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई कर लेती. क्योंकि जब वे घर पर खेलते हैं, तो वे अलग तरह से खेलते हैं. दिल्ली और मुंबई भी घरेलू परिस्थितियों में मजबूत रहे हैं.”