ग्लेन मैक्सवेल

आईपीएल 2020 की नीलामी जारी है, और अब तक ग्लेन मैक्सवेल समेत कई विदेशी खिलाड़ियों पर जमकर पैसे लुटाए जा चुके हैं. ऑक्शन से पहले ही ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने आरसाबी के साथ इस साल खेलने की चाहत दिखाई थी, और ऐसा हुआ भी, उन्हें खरीदने में बैंगलोर कामयाब रही. बोली के दौरान आरसीबी और चेन्नई में कड़ी टक्कर देखी गई थी, ऐसे में काफी महंगे 14.25 करोड़ की बड़ी रकम में बैंगलोर के हाथ बिके.

आरसीबी की टीम में शामिल हुए ग्लेन मैक्सवेल

 ग्लेन मैक्सवेल

हालांकि बीते साल उनका प्रदर्शन खास बेहतरीन नहीं रहा था, लेकिन बावजूद उन पर करोड़ों की बोली लगाई गई, अब वह अगले सीजन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की जर्सी में खेलते हुए नजर आएंगे. इस टीम में शामिल होने  के बाद ही ग्लेन मैक्सवेल ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी खुशी जाहिर की है.

दरअसल इसी साल किंग्स पंजाब टीम ने उन्हें अपनी फ्रेंचाइजी से रिलीज किया था. साल 2021 के आईपीएल नीलामी में उनका बेस प्राइस 2 करोड़ रुपये रखा गया था. लेकिन चेन्नई और आरसीबी के बीच टक्कर इतनी तेज थी कि, उनका प्राइस 14 करोड़ के पार पहुंच गया

ग्लेन मैक्सवेल ने आईपीएल 2021 में बिकने के बाद आरसीबी के लिए जताई खुशी

 ग्लेन मैक्सवेल

आरसीबी के साथ जुड़ने के बाद ग्लेन मैक्सवेल ने एक ट्वीट किया है, दरअसल अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट के जरिए उन्होंने एक ट्वीट करते हुए लिखा है कि,

‘मैं इस साल आरसीबी के साथ जुड़ने का इंतजार कर रहा था. फिलहाल इस साल मैं आरसीबी को आईपीएल की ट्रॉफी दिलाने में पूरी मदद करूंगा’.

13वें सीजन में बुरी तरह से फेल रहे थे ग्लेन मैक्सवेल

 ग्लेन मैक्सवेल-आरसीबी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, मैक्सवेल ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक ऑलराउंडर खिलाड़ियों की लिस्ट में शुमार हैं. बीते साल आईपीएल में उन्हें किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने नीलामी के दौरान 10 करोड़ 75 लाख रूपये की महंगी बोली लगाकर अपनी टीम में शामिल किया था. लेकिन जिस तरह से उनका प्रदर्शन रहा था, वो बेहद खराब था और वो 10 करोड़ क्या करोड़ के लायक भी परफॉर्मेंस नहीं दिखा पाए थे.

दरकअसल आईपीएल 2020 में ग्लेन मैक्सवेल को किंग्स इलेवन पंजाब ने कुल 13 मुकाबलों में खेलने का मौका दिया था, इस दौरान उन्होंने 15.42 की मामूली औसत से बल्लेबाजी करते हुए 108 रन बनाए थे. जबकि उनका स्ट्राइक रेट सिर्फ 101.88 का रहा था. इसके चलते उन्हें इस सीजन में ट्रोलिंग का भी सामना करना पड़ा था.