आज हम एक ऐसे खिलाड़ी की बात करने जा रहे,जो अपनी सधी और धुंआधार पारी के लिए जाना जाता है। लंबे अर्से तक भारतीय टीम में रहते हुए एक से बढ़कर एक रिकॉर्ड बनाए। कई अहम जिताऊ पारियां खेली,तो वहीं 2007 टी-20 वर्ल्ड कप का फाइनल जितवाया,लेकिन इस सबके बावजूद इस खिलाड़ी को टीम में एक मैच खेलने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। जी हां,हम बात कर रहे हैं गौतम गंभीर की। कई रिकॉर्ड और बेहतर प्रदर्श के बाद भी गंभीर को भारतीय टीम में खेलने का एक भी मौका नहीं मिल रहा।

अगर बात रिकॉर्ड की करें तो गौतम गंभीर एकमात्र भारतीय खिलाड़ी हैं,जिन्होंने एक साल में पांच अंतर्राष्ट्रीय शतक लगाए हैं।

साल 2009 में लगाए पांच टेस्ट शतक

23 facts to know about Gautam Gambhir

क्रिकेट के लिहाज से साल 2009 गौतम गंभीर के लिए अच्छा रहा। इसी साल गौतम गंभीर ने पांच शतक जड़कर नया कीर्तिमान स्थापित किया था।

1- साल 2009 में उन्होंने नेपियर में 26 मार्च को न्यूजीलैंड के खिलाफ शतक जड़ा था। इस मैच में गंभीर ने 137 रनों की  पारी खेली थी। गंभीर की पारी की बदौलत ही टीम मैच को ड्रा कर पाई और इस तरह गंभीर की वजह से एक हार होते-होते बची थी।

2- गंभीर ने साल 2009 में दूसरा शतक भी न्यूजीलैं के खिलाफ लगाया था। वेलिंगटन टेस्ट में गंभीर ने 167 रनों की शानदार पारी खेली थी।

3- गौतम गंभीर ने साल 2009 का अपना शतक अहमदाबाद में श्रीलंका के खिलाफ लगाया था। अहमदाबाद टेस्ट की दूसरी पारी में उन्होंने 114 रनों की पारी खेली थी। इसी मैच में तेंदुलकर ने भी 110 रन बनाए थे।

4- गंभीर ने अपना चौथा श्रीलंका के खिलाफ ग्रीनपार्क कानपुर में लगाया था,जिसमें उन्होंने 167 रन बनाए थे। इस मैच में गंभीर के अलावा द्रविड़ और सहवाग ने भी शतक जड़े थे।

5- लगातार पांचवां शतक गंभीर ने चटगांव में बांग्लादेश के खिलाफ उसी की धरती में लगाया था। इस मैच में गंभीर ने 116 रनों की बेहतरीन पारी खेली ।

गंभीर की कप्तानी में भारत नहीं हारा कोई वनडे

Gautam Gambhir

आपको बता दें कि गंभीर एक ऐसे कप्तान हैं,जिनकी कप्तानी में भारत कोई भी वनडे मैच नहीं हारा। गंभीर ने छह मैचों भारत की कप्तानी की थी और इन सभी मैचों में भारत ने जीत दर्ज की। गंभीर की बल्लेबाजी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने 2008 के बाद 13 टेस्ट मैचों में आठ शतक ठोके थे।

आईपीएल में बिखेरा जलवा

गंभीर का जलवा आईपीएल में भी बरकरार रहा। गंभीर ने अपनी कप्तानी के दम पर कोलकाता नाइटराडर्स को आईपीएल का चैंपियन दो बार चैंपियन बनाया।

दो विश्वकप में खेली विजयी पारियां

गंभीर

 

टी-20 और वनडे वर्ल्ड कप जिताने में गंभीर की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता। 2007 टी-20 विश्वकप के फाइनल में पाक के खिलाफ गंभीर ने 54 गेंदों पर 75 रनों की जिताउ पारी खेली थी। टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले गंभीर दूसरे बल्लेबाज थे।  वनडे वर्ल्ड कप- 2011 के फाइनल में भी गंभीर ने 97 रन बनाए थे,जिसके बदौलत भारत दोबारा वर्ल्ड चैंपियन बना। 

गंभीर के प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें अगस्त 2014 में उनकी फिर एक बार वापसी हुई । लेकिन वो कुछ खास कमाल नहीं कर पाए। तब से लेकर अभी तक गौतम गंभीर टीम में वापसी की राह देख रहे हैं।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *