unnamed 21

एक कोच और कप्तान की मजबूती के बिना कोई भी क्रिकेट टीम समझिए अधूरी हैं। साल 2005 में जब चैपल भारतीय टीम के कोच बने ,तो किसे पता था कि आने वाले कुछ साल महान भारतीय कप्तान गांगुली के लिए बहुत ही परेशानियों से भरा होगा। आज चैपल का जन्मदिन हैं और वह 70 साल के हो चुके हैं।

images 95
Pic credit: Getty images

इस दौरे से सामने आना शुरू हो गई कोच और कप्तान के बीच अनबन की खबरें

GANGSKB1
Pic credit: Getty images

मिडडे के रिपोर्ट के मुताबिक उस समय भारतीय टीम जिम्बाब्वे दौरे पर थी। सौरव गांगुली ने कोच चैपल से पूछा की आप किसे खिलाना चाहेंगे युवराज या कैफ। तो चैपल ने कहा वो दोनों खेलेंगे और तुम बाहर बैठोगे। यह सुन गांगुली हैरान रह गए और उन्होंने सीरीज छोड़ने का मन बना लिया। तभी चैपल ने बीसीसीआई को एक लेटर भेजा कि, गांगुली कप्‍तानी के लिए न ही शारीरिक और न मानसिक रूप से फिट है। यह लेटर मीडिया में लीक होते ही काफी बवाल हुआ। यहाँ तक कि गांगुली ही नहीं सचिन पर भी चैपल बहुत कुछ बोल गए थे।

rahul 650 110414070805
Pic credit: Getty images

उस समय भारतीय टीम में सचिन, सहवाग और द्रविड़ जैसे सिनियर खिलाड़ी मौजूद थे। वह सब इस बात को जानते थे कि चैपल गांगुली को टीम से बाहर करना चाहते हैं । यहां तक की इन तीनों को भी चैपल की तानाशाही पसंद नहीं आती थी।

सचिन ने अपनी आत्म कथा में किया हैं इस समय का जिक्र

sachin tendulkar
Pic credit : getty images

सचिन ने अपनी आत्‍मकथा प्‍लेइंग इट माय वे इस विवाद का जिक्र भी किया। अपनी किताब में सचिन तेंदुलकर ने लिखा कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच ग्रेग चैपल एक रिंग मास्‍टर की तरह काम करते थे। वह टीम के अन्‍य सदस्‍यों पर अपनी राय थोपते थे।

साल 2007 में चैपल की जगह गैरी किस्‍टर्न बने कोच

garry kirsten 650 051415114736 1
Pic credit: Getty images

चैपल का कैरियर भारतीय टीम के साथ कुछ ज्यादा समय का नहीं रहा। साल 2007 में उन्हें पद से हटा गैरी किस्‍टर्न टीम के कोच बने और उनकी मौजूदगी में भारत ने 2011 विश्वकप अपने नाम किया।

Leave a comment

Your email address will not be published.